इस वक्त कांग्रेस पार्टी में जमकर हंगामा हो रहा हैं। वहीं राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा कर रहें है। यात्रा को बीजेपी शासित कर्नाटक में तीन दिन हो चुके हैं और यहां पर रविवार को राहुल गांधी ने नंजनगुड स्थित प्रसिद्ध प्रचीन श्रीकांतेश्वर स्वामी मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद शाम को उन्होंने मैसूर स्थित एपीएमसी मैदान में एक रैली को संबोधित किया। इस दौरान बीच में ही तेज बारिश होने लगी।

हालांकि राहुल गांधी ने अपना संबोधन जारी रखा। यहां उन्होंने जमकर बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधाय़। इसके बाद बारिश के बीच ही उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात भी की। बारिश के बीच राहुल गांधी के भाषण का वीडियो कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं।

कन्याकुमारी से कश्मीर तक चलेगी यात्रा

वीडियो में राहुल गांधी को बारिश के बीच रैली को संबोधित करते हुए देखा जा सकता है। जिसमें वह कह रहे हैं कि कर्नाटक में भारत जोड़ो यात्रा पहुंची है। नदी जैसी यात्रा कन्याकुमारी से कश्मीर तक चलेगी। इस नदी में आपको हिंसा, नफरत नहीं दिखेगी. सिर्फ प्यार और भाईचारा दिखेगा. ये यात्रा रुकेगी नहीं। जैसे अभी देखो, बारिश आ रही है, बारिश ने अभी यात्रा को नहीं रोका। गर्मी-तूफान इस यात्रा को नहीं रोकने वाली. इस यात्रा का उद्देश्य बीजेपी और आरएसएस जो देश में नफरत फैला रही है, उसके खिलाफ खड़े होने का है।

क्या है वीडियो में

वहीं राहुल गांधी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर भी वीडियो को शेयर किया है। इसके साथ ही उन्होंने लिखा, “भारत को एकजुट करने से, हमें कोई नहीं रोक सकता। भारत की आवाज़ उठाने से, हमें कोई नहीं रोक सकता। कन्याकुमारी से कश्मीर तक जाएगी, भारत जोड़ो यात्रा को कोई नहीं रोक सकता।

Also Read : Indore: क्राइम ब्रांच ने इंटरनेशनल शेयर बाजार ‘फॉरेक्स फैक्ट्री’ के नाम से संचालित नकली कंपनी का किया भंडाफोड़ 

राहुल ने किया खादी ग्रामोद्योग केंद्र का दौरा

बता दें कि, इससे पहले राहुल गांधी ने महात्मा गांधी की जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने यहां खादी ग्रामोद्योग केंद्र का दौरा किया। 1927 और 1932 में महात्मा गांधी ने भी दौरा किया था। यहां उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी की हत्या करने वाली विचारधारा ने पिछले आठ वर्षों में असमानता और विभाजन को जन्म दिया है।

30 सिंतबर को पहुंचे थे कर्नाटक

राहुल गांधी यात्रा में लगातार चल रहे हैं और 30 सितंबर को वह पड़ोसी राज्य तमिलनाडु के गुडलुर से कर्नाटक के गुंडलुपेट पहुंचे. कांग्रेस की ये यात्रा कर्नाटक के साथ ही एक महत्वपूर्ण चरण में प्रवेश कर गई है। क्योंकि राज्य में अगले साल चुनाव होने हैं और यह पहली बार है जब यात्रा किसी भाजपा शासित राज्य से गुजर रही है।

कर्नाटक में फाड़े गए थे राहुल के पोस्टर

बता दें कि यात्रा के कांग्रेस में प्रवेश से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह राहुल गांधी के स्वागत के लिए पोस्टर लगाए थे। लेकिन चामराजनगर जिले के गुंडलुपेट क्षेत्र में अधिकतर पोस्टरों को फाड़ दिया गया था। इसके लिए कांग्रेस की ओर से BJP को जिम्मेदार ठहराया गया. राहुल गांधी के 40 से ज्यादा पोस्टर्स फाड़े गए थे।