सावधान: नकली कंडोम परिवारों में बांट रहे बीमारी

देश में मिलावटीखोरी और गौरखधंधे से लोगों को ठगा जा रहा है। क्या आपने सुना है कि कंडोम को भी गौरखधंधा कर लोगों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

0
21
sex without condom

नई दिल्ली। देश में मिलावटीखोरी और गौरखधंधे से लोगों को ठगा जा रहा है। क्या आपने सुना है कि कंडोम को भी गौरखधंधा कर लोगों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। दरअसल परिवार नियोजन को सरकार बढ़ावा दे रही है और सुरक्षित यौन संबंध के लिए कंडोम का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है, लेकिन बाजार में बेचे जा रहे नकली कंडोम परिवार के लिए घातक साबित होते जा रहे हैं।

इतना ही नहीं, कंपनी के लालच के कारण परिवार बढ़ रहा है और लोग यौन बीमारियों से पीड़ित हो रहे हैं। इसी बीच यूनाइटेड ने पिछले 2 सालों में कई नकली और असुरक्षित कंडोम के हजारों डिब्बे पकड़े हैं। खबरों के मुताबिक, यूके की द मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्टस रेगुलेटरी एजेंसी ने 2018 से लेकर 2019 के बीच पूरे देश में करीब 1 लाख नकली कंडोम पकड़े है। इतना बड़ा जखीरा देख पुलिस अफसर भी हैरान रह गए। दरअसल, 87,500 कंडोम तो एक ही रेड में मिले, जबकि वो सारे नकली थे।

साथ ही उसमें पुराने और असुरक्षित कंडोम भी थे। अगर ये कंडोम बाजार में बिकते है तो इससे आम लोगों को कई सारी समस्या हो सकती है। साथ ही कई प्रकार की बीमारियों से भी गृहस्थ हो सकते हैं। ब्रैडफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर महेंद्र पटेल ने बताया कि MHRA ने जो कंडोम जब्त किए हैं वे बेहद असुरक्षित थे। कई लोग ऐसे नकली कंडोम का गैर-कानूनी व्यापार करते हैं। इसकी वजह से कई बार बाजार में ऐसे कंडोम आ जाते हैं जो सुरक्षा के लिहाज से ठीक नहीं होते। आगे उन्होंने बताया कि लेटेक्स कंडोम प्राकृतिक रबर से बनाया जाता है।

जबकि नकली कंडोम को असुरक्षित तरीके से अप्राकृतिक पदार्थों से बनाया जाता है। जो कि यौन बीमारियों को रोकने में सक्षम नहीं होते। बता दे, MHRA ने अभी तक जितने भी कंडोम पकड़े उनकी कीमत 18.39 करोड़ रूपए से ज्यादा है। दरअसल, 2018 से 2019 के बीच इस तरह के गैर-कानूनी व्यापार करने वाले 859 लोगों को गिरफ्तार किया है। साथ ही MHRA ने लोगों को जागरूक करने के लिए यलो कार्ड स्कीम चला रखी है। इसी पर एजेंसी का कहना है कि अगर दवाइयों और कंडोम को लेकर किसी को भी कोई शिकायत है तो वह इस स्कीम के तहत शिकायत कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here