इंदौर, प्रदीप जोशी। प्रवासी भारतीय सम्मेलन के चलते इंदौर में होटल रूम की ऑन लाइन बुकिंग पर लगा प्रतिबंध अब समाप्त कर दिया गया है। ऑन लाइन बुकिंग पर यह प्रतिबंध होटल एसोसिएशन और एमपी टुरिज्म की संयुक्त सहमति से जून माह लगाया गया था। ताकि प्रवासी भारतीय सम्मेलन में आने वाले मेहमानों को उचित दर पर होटल्स में कमरे उपलब्ध कराए जा सके।

यह अभिनव पहल देश में पहली बार की गई और इसका फायदा सीधे बाहर से आ रहे हमारे मेहमानों को मिला। इंदौर की 37 होटल्स में करीब 2 हजार 600 कमरे रिजर्व रखे गए थे। इनमे से करीब 18 सौ कमरे विभिन्न देशों से आ रहे एनआरआई के नाम बुक हो चुके है। कमरों के उपलब्धता के आधार पर ऑन लाइन बुकिंग से प्रतिबंध हटा लिया गया है।

Read More : Optical Illusion Quiz: बूझो तो जानें! दी गई तस्वीर में सांप कहां है, जल्द पूरा करें 10 सेकंड का चैलेंज, जीनियस भी हुए फेल

दुरदर्शिता के कारण नहीं हुई कालाबाजारी

प्रवासी भारतीय सम्मेलन की तारीख तय होने के बाद सबसे पहले मेहमानों के आवास की चिंता की गई। वैसे तो इंदौर में विभिन्न केटेगरी की होटल्स में रूम पर्याप्त संख्या में उपलब्ध थे। पर चिंता ऑन लाइन बुकिंग के जरिए टुरिस्ट कंपनियां, होटल बुकिंग का ऑन लाइन व्यापार करने वाले लोग अथवा दलालों की थी जो ऑन लाइन रूम बुक कर बाद में मनमर्जी का रेंट चढ़ा सकते थे।

Read More : Mouni Roy ने जालीदार स्कर्ट में फ्लॉन्ट किया कर्वी फिगर, तस्वीरें देख हो जाएंगे मदहोश

विदेश से आ रहे मेहमानों को उचित दर पर मनपसंद आवास उपलब्ध हो इसके लिए होटल एसोसिएशन ने 37 होटल में 2650 रूम रिजर्व कर ऑन लाइन बुकिंग बंद कर दी। इसका फायदा एनआरआई को हुआ जिन्होंने डिस्काउंट रेट पर एमपी टूरिज्म के एप से अपने रूम बुक किए।

इंदौर से सुखद यादे लेकर जाए मेहमान

होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सूरी ने बताया कि अभी हमारे पास इंदौर में अलग अलग केटेगरी की करीब सौ होटल्स में 2 हजार के लगभग रूम उपलब्ध है। इनमे 37 होटल्स में रिजर्व किए गए करीब 8 सौ रूम शामिल है जो बुकिंग प्रतिबंध हटने के बाद फ्री हो गए है। सूरी ने कहा कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन इंदौर के लिए गौरवशाली प्रसंग है। बाहर से आने वाले मेहमान सुखद यादे लेकर यहां से जाए यही हमारा प्रयास है।