उत्तराखंड के ऋषिकेश में बीजेपी नेता के बेटे पुलकित आर्य को रिसॉर्ट रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी के मर्डर केस में गिरफ्तार कर लिया हैं। हत्या का मामला सामने आने पर भाजपा ने पिता विनोद आर्य को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया हैं। हाल ही में पिता ने दावा किया है कि उनका बेटा निर्दोष हैं। उन्होंने बताया कि मेरे बेटा ऐसी गतिविधियों में कभी नही रहा है और इतना ही नही बेटे को एक सीधा-साधा बालक भी बता दिया हैं।

करता है अपने काम की चिंता

खबरोंं से मिली जानकारी के मुताबिक, विनोद आर्य ने अपने बेटे पुलकित आर्य का बचाव करते हुए कहा कि वह ‘सीधा साधा बालक है। बेटा मेरा एक दम सिपल है उसे केवल अपने काम की ही चिंता हमेशा रहती है। मैं अपने बेटे पुलकित और हत्या की गई महिला दोनों के लिए इंसाफ चाहता हूं.’ उन्होंने कहा कि ‘वह कभी भी इस तरह के काम में शामिल नहीं होगा। विनोद आर्य ने ये भी कहा कि पुलकित लंबे समय से उनसे अलग रह रहा था।

Also Read : Bharti Singh ने अनुपमा बन बिखेरा कॉमेडी का जलवा, हर्ष लिंबाचिया भी बने ‘वनराज’, हंसते हंसते लोटपोट हुईं रुपाली गांगुली

भाजपा ने पिता को किया पार्टी से निष्कासित

उनकी यह टिप्पणी 19 वर्षीय युवती की हत्या पर जनता में भड़के भारी आक्रोश के बीच भाजपा द्वारा उन्हें और उनके बेटे अंकित आर्य निष्कासित करने के एक दिन बाद आई है। जबकि विनोद आर्य ने दावा किया कि उन्होंने मामले में निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए कल खुद पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने कहा कि, ‘पुलकित निर्दोष है. फिर भी मैंने निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए भाजपा से इस्तीफा दिया है. मेरे बेटे अंकित ने भी इस्तीफा दे दिया है।

पुलकित के साथ लोगों को किया गिरफ्तार

गौरतलब है कि, पुलकित आर्य ऋषिकेश में उस रिसॉर्ट का मालिक है। जहां मृतका युवती रिसेप्शनिस्ट के रूप में काम करती थी। पुलकित आर्य को शुक्रवार को रिसॉर्ट के मैनेजर सौरभ भास्कर और सहायक प्रबंधक अंकित गुप्ता के साथ गिरफ्तार किया गया था। राज्य के पुलिस प्रमुख अशोक कुमार ने कहा कि आरोपी से पूछताछ और महिला के मोबाइल चैट हिस्ट्री के आधार पर जांच से पता चलता है कि उस पर रिसॉर्ट में मेहमानों को ‘विशेष सेवाएं’ देने के लिए दबाव डाला गया था, जिसका उसने विरोध किया था।