ब्लैक फंगस को लेकर AIIMS निदेशक ने दी बड़ी जानकारी, बताया- ‘कैसे करता है प्रभावित’

देश में अभी कोरोना की दूसरी लहर ने पहले से ही तांडव मचा रखा है, ऐसे में एक और नया संक्रमण लोगों की चिंता बढ़ा रहा है, जी हां इस संक्रमण का नाम है काला फंगस यानि कि म्यूकरमाइकोसिस यह संक्रमण भी कोरोना मरीजों को अपना शिकार बना रहा है, इससे संक्रमित होने वालो के कई मामले राज्यों से सामने आ रहे है, ऐसे में AIIMS के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने इस काला फंगस के बारे में जानकारी दी है और इसके बारे में बताया है।

AIIMS के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने काला फंगस के बारे में बताया है कि ‘म्यूकरमाइकोसिस चेहरे, संक्रमित नाक, आंख और दिमाग को प्रभावित कर सकती है और इसके चलते आंखों की रोशनी भी जा सकती है, इतना ही नहीं यह संक्रमण फेफड़ों तक फैल सकता है, संक्रमण के पीछे स्टेरॉयड का दुरुपयोग एक प्रमुख कारण है।’

पहले भी आते थे मरीज-
AIIMS निदेशक ने आगे यह कहा है कि “म्यूकरमाइकोसिस बीजाणु मिट्टी, हवा और यहां तक ​​कि भोजन में भी पाए जाते हैं, लेकिन वे कम विषाणु वाले होते हैं और आमतौर पर संक्रमण का कारण नहीं बनते हैं, कोविड से पहले इस संक्रमण के बहुत कम मामले थे, अब कोविड के कारण बड़ी संख्या में मामले सामने आ रहे हैं।”

साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि AIIMS में इस फंगल इंफेक्शन के 23 मरीजों का इलाज चल रहा है, उनमें से 20 अभी भी कोविड-19 पॉजिटिव हैं और बाकी 3 निगेटिव हैं। साथ ही उन्होंने इसे रोकने के लिए स्टेरॉयड के दुरुपयोग को रोकने की सलाह दी है।