Indore में 400 स्थानों पर होगा अहिल्या वन का निर्माण, पक्षियों के लिए बनेगे छोटे कुण्ड

इन्दौर, दिनांक 30 मार्च 2022 । आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा उद्यान विभाग की सीटी बस आफिस में समीक्षा बैठक ली गई। बैठक में अपर आयुक्त ऋषभ गुप्ता, उपायुक्त लोकेन्द्रसिंह सोलंकी, अधीक्षण यंत्री दिलीपसिंह चौहान, उद्यान अधिकारी चेतन पाटिल व अन्य अधिकारी गण उपस्थित थे।

आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा बैठक में उद्यान विभाग द्वारा इन्दौर शहर में किये जाने वाले विकास कार्यों के संबंध में विस्तृत चर्चा की गई। आयुक्त द्वारा चर्चा के दौरान उद्यान विभाग द्वारा आगामी वर्षाऋतु को दृष्टिगत रखते हुए, किये जाने वाले पौधारोपण व सघन वन की अवधारणा एवं विकास कार्यो के संबंध में दिशा-निर्देश दिये गये।

ALSO READ: प्रशासन की बड़ी रिमूव्हल कार्यवाही, गुंडा अभियान के तहत चला बुलडोजर

अहिल्या वन के रूप में 400 स्थानो का होगा चिंहाकन

झोन 7 व 8 में 12 स्थलो का चयन कर कार्य किया जा रहा प्रारंभ

आयुक्त प्रतिभा पाल ने बैठक में निर्देश दिये कि शहर में ऐसे लगभग 400 स्थलो का चिन्हाकन कर अहिल्या वन के रूप में विकसीत किया जाना है प्रथमतः उक्त अवधारणा के तहत झोन क्र. 7 एवं 8 में लगभग 12 स्थलो का चयन किया जाकर कार्य प्रारम्भ किया जा रहा है ।


प्रत्येक वार्ड के 5 स्थलो में वर्षा को आकर्षित करने के लिये सघन वन की अवधारणा

बैठक में आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा शहरी क्षेत्र में प्रत्येक वार्ड अंर्तगत न्युनतम 5 स्थलो का प्राथमिक स्तर पर चिन्हाकन किया जाकर सघन वन कि अवधारणा अनुसार वर्षा को आकर्षित करने वाले पौधो (महागुनी, टिबुबिया, सिरस, सितवन, पीपल, जामुन, मोहनी, कटहल, कदम, चंपा एवं चितवन आदि) को रोपीत किये जाने हेतु निर्देशीत किया गया है ।

ALSO READ: इंदौर स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 : लीटरबीन में मेडिकल वेस्ट डालने पर 21 हजार का स्पॉट फाईन

पक्षियों के आकर्षण हेतु बनेगे छोटे कुण्ड व नागरिको के लिए ईक्रो फ्रेण्डली हट का होगा निर्माण

आयुक्त द्वारा उद्यान विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान शहर में चिंहाकित अहिल्या वनो मे जो स्थल लगभग 1 हेक्टयर या इससे ज्यादा क्षेत्रफल के है उनमें जैव विविधता को विकसीत कर एवं पक्षीयों के आकर्षण हेतु केन्द्र में एक छोटे कुण्ड का निर्माण किया जावेगा। साथ ही जो स्थल 1 हेक्टेयर से कम क्षेत्रफल के है में नागरिकों के बैठने हेतु इकोफ्रेंडली हट बनाऐ जावेगे। साथ ही वनो मे रहवासियो, वरिष्ठ नागरिको एवं छोटे बच्चों हेतु मुरम से निर्मित प्राकृतिक वाकिंग ट्रेक 1.5 से 2.5 मीटर का निर्माण किया जाना है तथा उक्त वनो मे भूमीगत जल के स्तर को बढान हेतु रेन वॉटर हार्वेस्टिंग का प्रावधान भी प्राथमिकता से किया जाएगा।

साथ ही आयुक्त प्रतिभा पाल ने उद्यान विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान यह निर्देश दिये कि इन स्थलों को चारो तरफ बाउंड्री वाल से कवर किया जाकर किनारों पर वाकिंग ट्रेक का निर्माण किया जाएगा। साथ ही प्रथम पंक्ति में फुलदार सघन पौधो का रोपण किया जाकर शेष क्षेत्र मे वानिकी प्रजाती के पौधों का रोपण नवीन जैव विविधता (इकोसिस्टम) बनाने के साथ साथ शहर में वर्षा का प्रतिशत बढ़ाने तथा तापमान में स्थिरता लाने हेतु निगम द्वारा प्रयास किया जा रहा है। इन स्थलों पर लगाये गए पौधो से निकलने वाले कचरे/ ग्रीनवेस्ट हेतु कमपोस्ट पीटो का निर्माण कर उसमें खाद तैयार कि जाकर इसका उपयोग इसी क्षेत्र में किया जाएगा तथा अहिल्या वनो के माध्यम से शहर को स्वच्छ रखने के साथ साथ हरा-भरा बनाने की परिकल्पना को मुर्तरूप दिया जा रहा है ।