दिग्विजय के बाद कैलाश विजयवर्गीय के ट्वीट से मचा बवाल, दोनों नेताओं में चली ट्वीट वाॅर

कैलाश विजयवर्गीय ने एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें एक शख्स कह रहा है कि 'हम जरा कुछ करें तो तहलका मच जाता है इतना डर काफी है इन लोगों के लिए'. इस वीडियो को पोस्ट करते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने लिखा- यह है खरगोन में चचाजान दिग्विजय सिंह के शांतिदूत इन पर कारवाई ना हो तो फिर क्या हो? आस्तीन के सांप का फन कुचलना जरूरी है.

भोपाल। प्रदेश में इन दिनों राजनेताओं के अजीबोगरीब और आपत्तिजनक सोशल मीडिया पोस्ट थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. खरगोन दंगे को लेकर जहां दिग्विजय सिंह कि सोशल मीडिया पोस्ट पर बवाल मचा था. वही अब कैलाश विजयवर्गीय के ट्वीट से राजनीति गरमा गई है.

कैलाश विजयवर्गीय ने एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें एक शख्स कह रहा है कि ‘हम जरा कुछ करें तो तहलका मच जाता है इतना डर काफी है इन लोगों के लिए’. इस वीडियो को पोस्ट करते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने लिखा- यह है खरगोन में चचाजान दिग्विजय सिंह के शांतिदूत इन पर कारवाई ना हो तो फिर क्या हो? आस्तीन के सांप का फन कुचलना जरूरी है.

 

कैलाश विजयवर्गीय की इस पोस्ट को देखकर दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया और लिखा कि कैलाश जी आपने जो वीडियो डाला है वह खरगोन का नहीं है. जिस भाषा का उपयोग आपने किया वह भड़काने वाली है क्यों न शिवराज और नरोत्तम जो आपके शुभचिंतक है वह आपके खिलाफ मुकदमा दायर करें? मैं नहीं करूंगा, क्योंकि मैं जानता हूं कि आजकल आपके अच्छे दिन नहीं चल रहे.

दिग्विजय के ट्वीट के बाद विजयवर्गीय ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा कि दिग्विजय जी आप अपनी आदत के अनुसार मेरी ट्वीट का अलग मतलब निकाल रहे हैं जिसमें आप सफल नहीं होंगे. मेरे ट्वीट को फिर से पढ़ें आपको मतलब समझ आ जाएगा. जिन शांति दूतों का आप समर्थन करते हैं अगर वह अपराध करेंगे तो उन पर कार्रवाई की जाएगी.

इसके पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मस्जिद पर भगवा झंडा फहराते हुए एक फोटो शेयर किया था जो गलत होने पर डिलीट भी कर दिया था. जिसके बाद उनके खिलाफ भोपाल और कई अलग-अलग शहरों में एफआईआर दर्ज की गई थी. इसी को देखते हुए अब कैलाश विजयवर्गीय के वीडियो की जांच कराकर केस दर्ज करने की मांग की जा रही है.