संस्था के अध्यक्ष दीपक भंडारी ने बताया कि 4 घंटे चली इस परिचर्चा में कई बिंदुओं पर विचार किया गया इंदौर शहर विकास की नई इबारत लिखने के लिए दृढ़ संकल्पित है वर्तमान के घटनाक्रम भविष्य के देश के सबसे विकसित शहर इंदौर के बनने के सभी कारण मौजूद हैं l आज विभिन्न उद्योग व्यवसाय और सेवाओं के अलावा पर्यटन उद्योग भी विशेष रूप से रोजगार प्रदान कर रहा है इंदौर की भौगोलिक स्थिति उसे वाला प्रदान कर रही है।

मुख्य अतिथि के रूप में इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल जी चावड़ा ने कहा कि केंद्र सरकार के गति शक्ति प्रोजेक्ट में देवास नाका पर 21 एकड़ जमीन में 365 करोड़ का देश का पहला मल्टी फैसिलिटी इंटरनेशनल लॉजिस्टिक पार्क का निर्माण किया जा रहा है l आज संस्थान के पास धन की बिल्कुल भी कमी नहीं हैं l हमारे पास 3 से 4 साल की प्रोजेक्ट अनुसार लिक्विडिटी है l हमने इंदौर में सिंगापुर और साउथ एशिया की बड़ी कंपनियों को कॉन्ट्रैक्ट देना शुरू कर दिया है lजो भविष्य के इंदौर का निर्माण करेंगे और इंटरनेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा करेंगे।

सुपर कॉरिडोर पर स्टार्टअप पार्क और इनक्यूबेशन सेंटर का काम बहुत तेज गति से चल रहा है lहम आने वाले 50 से 60 वर्षों में इंदौर की परिकल्पना कर रहे हैं और उसी हिसाब से विकास कार्य कर रहे हैं l अपनी विशेषताओं की वजह से इंदौर हमारी सोच से कहीं अधिक तेज गति से वृद्धि कर रहा है इसलिए हमें अपने कार्यों को और तेजी से करने की आवश्यकता महसूस होती है l यह मिनी मुंबई है और यहां भविष्य में मुंबई से भी ज्यादा संभावना नजर आ रही है l मुख्यमंत्री जी के सपनों का शहर होने की वजह से मध्य प्रदेश सरकार का विशेष ध्यान इंदौर पर सदैव रहता है lइंदौर में जो व्यक्ति एक बार आता है यही का हो जाता है। वह चाहे सरकारी अधिकारी हो या प्राइवेट सेक्टर की नौकरी में हो या फिर कोई व्यापारी या उद्यमी हो l उसकी पीढ़ियां भी यही रहना चाहती है।

हम जिन ठेकेदारों को काम अलाट करते हैं आशा करते हैं कि वह समय पूर्व काम खत्म करें। यदि ऐसा नहीं होता है तो उसमें बहुत नुकसान होता है और अव्यवस्था फैलती है ।अतः जल्द कार्यों को पूर्ण करने वाले ठेकेदारों को हम बक्शीश और बोनस दोनों देना चाहते हैं ताकि जो देरी से काम खत्म करते हैं ऐसे ठेकेदारों को उनसे प्रेरणा मिले। प्रमुख वक्ता के रूप में मध्य प्रदेश सिविल इंजीनियरिंग सोसायटी के अध्यक्ष श्री राजेंद्र जी गौतम थे अपने संबोधन में गौतम ने कहा हमारी संस्था के सदस्य देश और विदेशों में अनेक बड़े बड़े प्रोजेक्ट में संलग्न हैl यदि इंदौर विकास प्राधिकरण हमें अपने साथ में जोड़ता है तो हम अपने शहर को विश्वस्तरीय बनाने में योगदान देंगे और तन मन धन से आपको सहयोग करेंगे l हम अपने शहर के लिए काम करके खुश और गौरवान्वित महसूस करेंगेl उन्होंने यह भी मांग रखी कि प्राधिकरण हर 3 माह में एक बैठक आयोजित करें जिसमें विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि तथा आर्किटेक्ट इंजीनियर शामिल किए जाएंl

चावडा जी ने कहा कि हम इसके लिए तैयार हैं इसके अलावा यदि आप चाहें तो मेरे ऑफिस मुझसे आकर कभी भी मिल सकते हैं और सुझाव दे सकते हैं । अगर फैसिबल होगा तो हम उसे तुरंत ही लागू करेंगे। कार्यक्रम में 150 से अधिक व्यक्तियों की उपस्थिति में कई बातों पर विचार विमर्श किया गया lअन्य वक्ताओं में वेद प्रकाश दुबे कविता ठाकुर सतीश शर्मा गौरव भूतड़ा दीपक शाह अखिल रायकवार जय परिहार कमल किशोर गुप्ता अंकित कुंभकार नरेश बोंद्रे कमलेश वैष्णव इत्यादि ने अपने विचार रखे l अंत में आभार आनंद रायकवार ने माना।