जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में डॉक्यूमेंट्री की बात बढ़ती जा रही हे। छात्र यूनिवर्सिटी गेट पर प्रदर्शन कर रहे हैं। इस दौरान कई छात्रों को दिल्ली प्रशासन ने हिरासत में ले लिया है। यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा डॉक्यूमेंट्री स्क्रीनिंग पर प्रतिबंध लगा देने से छात्र विरोध करने बैठ गए थे। जिसको देखकर दिल्ली पुलिस कर्मचारियों ने मजबूरन हिरासत मैं लिए।

डॉक्यूमेंट्री स्क्रीन का मामला पंजाब यूनिवर्सिटी तक पहुंच गया है। पंजाब यूनिवर्सिटी में डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग NSUI द्वारा शुरू कर दी गई थी। लेकिन यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इसे रोक दिया एसआई का कहना है, कि जब तक हिरासत में छात्र लिए गए हैं उनको रिहा नहीं किया जा सकता, तब तक जब तक डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग नहीं की जाएगी। और आपको बता दें कि 7 छात्र अभी हिरासत में हे। यूनिवर्सिटी की नजमा अख्तर का कहना है कि यूनिवर्सिटी की शांति के लिए छात्रों पर एक्शन भी लिया जाएगा। और अभी डॉक्यूमेंट्री स्क्रीनिंग की इजाजत यूनिवर्सिटी प्रशासन ने नहीं दी है जिसके चलते छात्र विरोध कर रहे हैं।

 

Also Read – ओडिशा में भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व मुख्यमंत्री और उनके बेटे ने BJP से दिया इस्तीफा

 

जामिया यूनिवर्सिटी कि अपनी सिक्योरिटी है। जो छात्रों को संभालती है ,और गेट के अंदर कुछ छात्रों की भीड़ जमा है।और वे नारेबाजी कर रहे हैं। जबकि सुरक्षा बल और पुलिस कर्मचारी कैंपस के बाहर मौजूद हैं छात्रों के द्वारा विरोध जारी है और यूनिवर्सिटी गेट के बाहर ट्रैफिक जाम हो गया है छात्रों की काफी भीड़ है दिल्ली प्रशासन ने कई छात्रों को हिरासत में ले लिया है।

जामिया यूनिवर्सिटी प्रशासन ने सर्कुलर जारी किया है। जिसमें 29 अगस्त 2022 के आर्डर का हवाला देते हुए बताया गया है, कि कैंपस के अंदर किसी भी स्टूडेंट को मीटिंग और गेंदरिंग की इजाजत नहीं है। किसी भी छात्र को कैंपस के बहार गेट पर भीड़ जमा करने की परमिशन नहीं है, यदि कोई भी बिना परमिशन ऐसा करता है, तो उसके खिलाफ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाएगा।