Indore News : 14 गरीब परिवारों को मिला उनका खुद का आशियाना, हाईकोर्ट से मिली मंजूरी

मेहनत मजदूरी करने वाले राजाराम सहित 14 गरीब परिवार वर्षों से बिचोली मर्दाना की जिस शासकीय जमीन पर झोपड़ियां बनाकर रह रहे थे प्रशासन ने उस जमीन को हाईकोर्ट जजों के आवास बनाने के लिए दे दिया है।

indore news

Indore News : मेहनत मजदूरी करने वाले राजाराम सहित 14 गरीब परिवार वर्षों से बिचोली मर्दाना की जिस शासकीय जमीन पर झोपड़ियां बनाकर रह रहे थे प्रशासन ने उस जमीन को हाईकोर्ट जजों के आवास बनाने के लिए दे दिया है। इन गरीब परिवारों को यहां से हटाए जाने का नोटिस क्षेत्रीय तहसीलदार राजेश सोनी द्वारा जारी किया गया था। इन गरीब परिवारों के सामने यह दुविधा थी कि वह जाएं तो जाएं कहां । क्योंकि इनके पास सिर छुपाने के लिए इंदौर में कहीं कोई जगह नहीं थी। हिम्मत कर सभी परिवारों के महिला पुरुष एक दिन कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और कलेक्टर मनीष सिंह को अपनी व्यथा सुनाई।

Also Read : अब केंद्रीय कर्मचारियों को होगा 2 लाख रुपए तक का फायदा, सरकार देगी ये तोहफा

कलेक्टर मनीष सिंह ने इन गरीबों की हर हाल में मदद करने का निश्चय किया और तहसीलदार को इन्हें बिचोली मर्दाना के आसपास ही किसी शासकीय जमीन पर बसाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए कि इन सभी गरीब परिवारों को अपने घर बनाने के लिए किसी योजना में पांच पांच हजार की आर्थिक सहायता भी दी जाए। कलेक्टर के निर्देश पर तहसीलदार राजेश सोनी ने समीप ही इन सभी 14 परिवारों को माली खेड़ी में पहाड़ी के पास घर बनाने के लिए जमीन दे दी है। तहसीलदार द्वारा इस जमीन को समतल कराया गया यही नहीं इन परिवारों के लिए यहां विद्युत व्यवस्था और पेयजल की भी व्यवस्था की जा रही है ।

Also Read : लता दीदी की याद में इंदौर में बनेगी संगीत अकादमी, CM शिवराज ने किया ऐलान

जिला प्रशासन द्वारा मिली राशि से सभी गरीब परिवार अब यहां अपने आवास बना रहे हैं । राजाराम ने बताया कि कलेक्टर द्वारा की गई मदद से सभी गरीब परिवार काफी खुश हैं। अब उन्हें रहने का स्थाई ठिकाना मिल गया है। राजाराम ने बताया कि सभी परिवारों के साथ वे कलेक्टर मनीष सिंह को धन्यवाद देने जरूर जाएंगे। यहां की महिलाओं ने भी कहा कि कलेक्टर द्वारा की गई मदद वह जीवन में नहीं भुला सकते। क्योंकि वह सभी तो वापस अपने अपने गांव जाने की तैयारी कर रहे थे अगर कलेक्टर ने पहल नहीं की होती तो हम छोटे-छोटे बच्चों को लेकर कहां जाते। सभी दर-दर की ठोकरें खा रहे होते।