आपकी सरकार आपके द्वार: एक महीने में किया पौने पांच हजार से अधिक आवेदनों का निराकरण

इंदौर संभाग में एक नवम्बर 2019 से नागरिकों को निर्धारित समय-सीमा में विभिन्न सेवाएं उपलब्ध कराने के लिये संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की पहल पर आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम को प्रभावी बनाने के लिये जनमित्र शिविर आयोजनों के लिये कार्ययोजना बनाकर उसका क्रियान्वयन शुरू किया गया।

0

इंदौर: इंदौर संभाग में संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की विशेष पहल पर आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत जनमित्र शिविर के आयोजनों का सिलसिला शुरू किया गया है। इन शिविरों का आयोजन संभाग के जिलों में गांव-गांव किया जा रहा है। संभाग में अब तक पौने 5 हजार से अधिक आवेदनों का निराकरण इन शिविरों के माध्यम से किया जा चुका है।

बताया गया कि संभाग के इंदौर जिले में 105, अलीराजपुर जिले में 2287, बड़वानी में 1045, बुरहानपुर में 410, धार 102, झाबुआ में 54, खंडवा में 88 और खरगोन जिले में 802 आवेदनों का निराकरण किया गया। इंदौर संभाग में एक नवम्बर 2019 से नागरिकों को निर्धारित समय-सीमा में विभिन्न सेवाएं उपलब्ध कराने के लिये संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की पहल पर आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम को प्रभावी बनाने के लिये जनमित्र शिविर आयोजनों के लिये कार्ययोजना बनाकर उसका क्रियान्वयन शुरू किया गया। इसके लिये संभाग के सभी जिलों में माहवार कार्यक्रम तय किये गये है। तय कार्यक्रम के अनुसार जनमित्र शिविर हर सप्ताह आयोजित हो रहे हैं।

शिविरों में शहरी क्षेत्र के नागरिकों को विभिन्न विभागों से संबंधित 51 तथा ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों को 52 सेवाओं का लाभ सीधे-सीधे मिल रहा हैं। शिविर मे नागरिकों को स्थानीय स्तर पर ही आवेदन देना होता हैं। वहीं इसका निराकरण कर एक निर्धारित समय-सीमा में उन्हें सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। सेवाएं उपलब्ध नहीं कराने वाले अधिकारी-कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही का प्रावधान भी रखा गया है।

संभागायुक्त त्रिपाठी ने सभी कलेक्टर्स को इस योजना को प्रभावी तौर पर लागू करने के निर्देश दिये है। शिविर में शासकीय योजना के लाभ संबंधित आवेदन प्राप्त किये जाकर पंजीयन किया जाकर निर्धारित समयावधि में उनका निराकरण किया जा रहा हैं। उक्त शिविर में राजस्व, उर्जा, पीएचई, सामाजिक न्याय, खाद्य, स्वास्थ्य, कृषि, आईसीडीएस, पंचायत एवं ग्रामीण विकास सहित अन्य विभागों की सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।