अमेरिकाविदेश

चीन को सबक सिखाने के लिए ट्रंप ने उठाया बड़ा कदम, इन 33 कंपनियों को किया ब्लैकलिस्ट

वाशिंगटन : कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार चीन पर आरोप लगा रहे हैं. बीते दिनों चीनी स्टॉक मार्केट से अरबों डॉलर के अमेरिकी पेंशन निधि निवेश को वापस लेने के ऐलान के बाद अब अमेरिका चीन की ऐसी 33 कंपनियों और संस्थाओं को ब्लैकलिस्ट करने जा रहा है.

बता दें कि काफी दिनों से ट्रंप चीन पर यह आरोप लगा रहे हैं कि कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर की लैब में पैदा हुआ था और चीन ने इसे जानबूझ कर पूरी दुनिया में फैलाया।

अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा है, “सात कंपनियों और दो संस्थानों को लिस्ट में डाला गया क्योंकि वे ऊइगर और अन्य लोगों के मानवाधिकारों के हनन के चीनी अभियान से जुड़ी थीं जिनके तहत बड़ी तादाद में लोगों को बेवजह हिरासत में लिया जाता है, उनसे बंधुआ मज़दूरी करवाई जाती है और हाई-टेक तकनीक के सहारे उन पर नज़र रखी जाती है.”

वहीं अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने एक बार फिर कोरोना वायरस को लेकर चीन पर जमकर हल्ला बोला है. उन्होंने चीन पर आरोप लगाते हुए कहा कि “वहां की सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का गंभीर खतरा होने की जानकारी के बावजूद अपने लोगों को विदेश यात्रा करने की अनुमति दी.”

उन्होंने आगे कहा कि “इसकी वजह से पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा और भी गहरा गया। चीन चाहता तो कोरोना पूरी दुनिया में इतना नहीं फैलता। इस मामले में चीन को क्या और किस तरह का दंड दिया जाना चाहिए, इस रणनीति का फैसला राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप करेंगे।”