क्या महाकाल मंदिर में भस्मारती के दौरान नहीं उपयोग होगा लाउडस्पीकर? जानें पूरा सच

0
Mahakaleshwar

उज्जैन। देश के प्रसिद्ध मंदिर महाकालेश्वर से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया जा रहा है कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने महाकाल मंदिर में होने वाली सुबह की भस्मारती के दौरान लाउडस्पीकर के प्रयोग पर रोक लगा दी है। जिसके चलते अब महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति ने पत्र जारी की इन दावों का खंडन किया है और इन्हे सिरे से खारिज कर दिया है।

मंदिर प्रबंध समिति की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि वायरल वीडियो में एक पुजारी उनके मंदिर में भस्म आरती के समय लाउडस्पीकर हटाने का विरोध कर रहे हैं। वीडियो एवं पेपर कटिंग की जांच करने पर उक्त वीडियो आष्टा तहसील का है। लेकिन उज्जैन स्थित कई सोशल मीडिया समूह में उक्त वीडियो महाकालेश्वर मंदिर की भस्म आरती से जोड़कर वायरल किया जा रहा है। जिसको लेकर जनसंपर्क अधिकारी द्वारा सोशल मीडिया पर चलाए जा रहे वीडियो उल्लेख का खंडन किया है और साथ ही चेतावनी जारी की है कि भ्रामक वीडियो एवं लेख करने पर कड़ी कार्रावाई की जाएगी।

वहीं मंदिर के प्रशासन ने भी वीडियो वायरल वाले पर एफआईआर दर्ज करवाने की बात कही है। बता दें कि मध्यप्रदेश ध्वनि नियंत्रण अधिनियम 1985 के अंतर्गत ध्वनि प्रसारण यंत्रों को लेकर राज्य के गृह मंत्रालय ने 9 जनवरी 2020 को जिला कलेक्टर सीहोर के नाम से एक पत्र जारी किया गया था। जिसमें निर्धारित समय में लाउडस्पीकर की अनुमति प्रदान करने की बात कही गई थी।

राज्य गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आदेश में पूर्व से जारी दिशा निर्देशों और हाईकोर्ट के निर्णयों को आधार मानते हुए रात 10ः00 बजे से सुबह 6ः00 बजे तक लाउडस्पीकर के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने की बात कही गई थी। लेकिन इस मामले को उज्जैन के महाकाल मंदिर से जोड़ा जा रहा है और इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है।