उत्तरप्रदेश : आज वाराणसी में पीएम मोदी, अखिल भारतीय शिक्षा समागम सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे।

पीएम नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहेंगे उपस्थित, अखिल भारतीय शिक्षा समागम ( All India Education Association) के सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे, 7 जुलाई से 9 जुलाई तक चलेगा कार्यक्रम , उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व राज्यपाल आनंदीबेन पटेल रहेंगे उपस्थित ।

PM narendra modi

पीएम नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में उपस्थित रहेंगे । वहां नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) अखिल भारतीय शिक्षा समागम ( All India Education Association) के सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। इस तीन दिवसीय सम्मेलन में शिक्षा के विभिन्न कार्य क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञों द्वारा उच्च शिक्षा के वर्तमान स्वरूप और राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के विविध स्वरूपों के बारे में विस्तृत चर्चा करेंगे। शिक्षा मंत्रालय के अनुसार, अखिल भारतीय शिक्षा समागम का आयोजन ,केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग और बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के सहयोग व योगदान से किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी इस अवसर पर विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे। 7 जुलाई से 9 जुलाई तक चलेगा कार्यक्रम।

Also Read-काली पोस्टर विवाद के बाद डायरेक्टर लीना का नया ट्वीट वाइरल, फिर आई ट्रोलर्स के निशाने पर

वाराणसी के एलटी कॉलेज में ‘अक्षय पात्र मध्याह्न भोजन रसोई घर” का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के एलटी कॉलेज वाराणसी में ‘अक्षय पात्र मध्याह्न भोजन रसोई घर” का उद्घाटन करने की जानकारी भी सूत्रों के माध्यम से प्राप्त हुई है । खबर के अनुसार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डॉक्टर संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम में विभिन्न स्तरीय
परियोजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास करेंगे।

Also Read-Petrol-Diesel Price Today: पेट्रोल-डीजल पर क्या है आज की अपडेट 

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व राज्यपाल आनंदीबेन पटेल रहेंगे उपस्थित

सूत्रों के अनुसार इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान आदि उपस्थित रहेंगे। इसके साथ ही सम्मेलन में प्रशासनिक एवं निजी क्षेत्र के विश्वविद्यालयों के 300 से अधिक कुलपति एवं निदेशक सहित शिक्षाविद, नीति निर्माता, व विभिन्न उद्योगों के प्रतिनिधि भी हिस्सा लेंगे। सम्मेलन में उच्च शिक्षा के वर्तमान स्वरूप एवं राष्ट्रीय शिक्षा नीति के बारे में चर्चा की जाएगी।