उज्जैन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशानुरूप उज्जैन में अगले वर्ष महाशिवरात्रि 18 फरवरी 2023 से लेकर वर्ष प्रतिपदा 22 मार्च 2023 तक विक्रमोत्सव का आयोजन किया जायेगा। 18 फरवरी महाशिवरात्रि पर्व पर शिव दीपावली मनाकर शिप्रा नदी रामघाट एवं अन्य घाटों पर 21 लाख दीये लगाकर गिनीज बुक में नाम दर्ज कराया जायेगा। विक्रमोत्सव के विविध कार्यक्रमों में अलग-अलग तिथियों में कार्यक्रम आयोजित करने के सम्‍बन्ध में शुक्रवार 9 दिसम्बर को प्रशासनिक संकुल भवन के सभाकक्ष में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारी एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने विक्रमोत्सव भव्य पैमाने पर आयोजित कर अच्छे से मनाये जाने के निर्देश दिये। महाशिवरात्रि पर्व 18 फरवरी को शिव दीपावली मनाई जाकर अभी से गिनीज बुक में नाम आने के लिये सम्बन्धित से सम्पर्क किया जाये। कलेक्टर आशीष सिंह ने इस सम्बन्ध में सम्बन्धित अधिकारी को दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि 21 लाख दीये लगाये जाने के लिये रामघाट छोटा पड़ने पर आगे के घाटों का उपयोग किया जाये। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने बैठक में जानकारी दी कि विक्रमोत्सव के भव्य आयोजन के लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ भी बैठक शीघ्र की जायेगी। बैठक में राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर की बड़ी हस्तियों को आमंत्रित करने का कार्य किया जायेगा। बैठक में विक्रमादित्य शोधपीठ के संचालक श्री श्रीराम तिवारी ने बैठक के आयोजन के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी।

बैठक में विक्रमोत्सव के आयोजन के लिये महाशिवरात्रि 18 फरवरी से वर्ष प्रतिपदा 22 मार्च तक अलग-अलग तिथियों में शिव दीपावली, भक्तिपरक लोकप्रिय गायकों की प्रस्तुतियां, विविध प्रदर्शनियां, हस्त शिल्प मेला, नाट्य प्रस्तुतियां, पुस्तक मेला, मन्दिरों के श्रृंगार भजन मण्डलियों की प्रतियोगिता, अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह, राष्ट्रीय वेद समागम, वृहत्तर भारत की संस्कृति, साहित्य एवं पुरातत्व पर केन्द्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी, कवि सम्मेलन, राष्ट्रीय युवा विज्ञान महोत्सव, विक्रमादित्य वैदिक घड़ी की स्थापना, विक्रम पंचांग का प्रकाशन, वेद अंताक्षरी सहित भारत एवं दुनिया के अनेक देशों की सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का आयोजन किया जायेगा। कार्यक्रम शहर के विभिन्न स्थलों जैसे रामघाट, कालिदास अकादमी, त्रिवेणी संग्रहालय आदि स्थानों पर अलग-अलग तिथियों में अलग-अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा।

बैठक में कलेक्टर आशीष सिंह ने विक्रमोत्सव के आयोजन के सम्बन्ध में सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को साफ-सफाई, विद्युत, रंगाई-पुताई, मंच निर्माण, चिकित्सा, यातायात व्यवस्था आदि सुव्यवस्थित व्यवस्था करने के लिये निर्देश दिये।

Also Read : IMD Alert : अगले 24 घंटों में इन 10 जिलों में गरज और चमक के साथ होगी भारी बारिश , मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

बैठक में विधायक पारस जैन, कलेक्टर आशीष सिंह, नगर निगम आयुक्त रोशन सिंह, एडीएम संतोष टैगोर, महापौर मुकेश टटवाल, नगर निगम सभापति कलावती यादव, विवेक जोशी, रूप पमनानी, विक्रम विश्वविद्यालय के कुल सचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक, महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के प्रशासक संदीप सोनी, डॉ.रमण सोलंकी, दिनेश दिग्गज, संतोष पण्ड्या, पं.नारायण उपाध्याय, तरूण उपाध्याय, डॉ.आरसी ठाकुर, वीजेंद्र वर्मा, अजय शर्मा, संजय अग्रवाल, हेमंत शर्मा आदि उपस्थित थे।