कोरोना महामारी के वक्त होने वाली घटनाओ को ध्यान में रखतें हुए पवन नागपाल के निर्देशिन में बनी फिल्म का शुक्रवार को ट्रेलर रिलीज कर दिया गया हैं। इसमें 14 साल का मासूम बच्चें को रोल मेंन रोल के लिए कांस्ट किया गया हैं। ट्रेलर हमें नन्हे नरेन की झलक दिखलाता है और बताता है कि वे पीएम नरेंद्र मोदी से कितने मिलते-जुलते हैं।

शुरूआत में ये दिखाया गया है ट्रेलर के

फिल्म ‘बाल नरेन’ के ट्रेलर में शुरुआत कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बारे में एक समाचार बुलेटिन से होती है। फिर हम देखते हैं कि गांववालों का एक समूह टीवी पर वही समाचार देख रहा है और सोच रहा है कि अगर यह महामारी उनके गांव में पहुंच गई है तो वे इससे कैसे निपटेंगे. ट्रेलर से तब हीरो का परिचय मिलता है। नरेन नाम के एक 14 साल के लड़के की झलक मिलती है।

युवा नरेन बड़ा होकर बनना चाहता है सरपंच

ऐसा लगता है कि कहानी 2020 में सेट की गई है। जाहिर है कि इसका पीएम नरेंद्र मोदी के बचपन से कोई ताल्लुक नहीं है, पर उनसे कुछ समानताएं जरूर हैं। युवा नरेन बड़ा होकर सरपंच बनना चाहता है। फ्लैशबैक में दिखाया गया है कि छोटा नरेन स्वच्छ भारत अभियान में हिस्सा लेता है। जबकि थोड़ा बड़ा होने पर नरेन चाय बेच रहा है, इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है।

Also Read : Congress President Election: क्या खड़गे बनेंगे कांग्रेस पार्टी के रबर स्टाम्प अध्यक्ष, गांधी परिवार के हैं ‘वफादार’, अपनी छवि के कारण कटा दिग्गी राजा का पत्ता

सच्ची घटना से प्रेरित बताई जा रही है फिल्म

नरेन की स्कूल की वर्दी आरएसएस की वर्दी जैसी लगती है। जिसके पीएम मोदी सदस्य रहे हैं. फिल्म में डायलॉग है- ‘नरेन ने सोच लिया तो करके ही मानेगा’ जो नरेन के धैर्य और दृढ़ संकल्प को बयां करता है। नरेन ने अब फैसला किया है कि वे अपने गांव में कोविड-19 वायरस को एंट्री करने नहीं देंगे। फिल्म सच्ची घटनाओं से प्रेरित होने का दावा करती है।

यज्ञ भसीन ने निभाया है नरेन का रोल

बाल कलाकार यज्ञ भसीन ने फिल्म में नरेन का लीड रोल निभाया है। जिसमें बिदिता बाग, रजनीश दुग्गल, गोविंद नामदेव, विंदू दारा सिंह और लोकेश मित्तल भी हैं। यह फिल्म 14 अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज होने के लिए तैयार है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, फिल्म के बारे में बात करते हुए, निर्माता दीपक मुकुट कहते हैं। ‘दर्शकों के लिए इस तरह की प्रासंगिक कॉन्सेप्ट को लाना समय की जरूरत है। हमें ऐसी संदेश आधारित फिल्मों का समर्थन करना चाहिए जो पूरे समाज को प्रभावित करती है।