उत्तर प्रदेश की इलाहाबद यूनिवर्सिटी में सोमवार को बवाल हुआ है। छात्र और सुरक्षा गार्ड के बीच भिड़ंत में आधा दर्जन से अधिक के घायल होने की खबर है। दोनों ओर से ईंट पत्थर चले हैं। छात्रों ने सुरक्षा गार्ड पर गोली चलाने का आरोप लगाया है। इस बवाल के दौरान पूर्व छात्र विवेकानंद पाठक समेत कई छात्र घायल हो गए हैं. मौके पर भारी संख्या में पुलिस मौजूद है।

छात्रसंघ बहाली को लेकर छात्रों का प्रदर्शन चल रहा था, इसी दौरान छात्रों और सुरक्षा गार्डों के बीच बवाल हो गया। नौबत ईंट-पत्थर चलने तक आ गई है। छात्रों ने यूनिवर्सिटी कैंपस में तोड़फोड़ के साथ ही कुछ गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है।

फायरिंग का आरोप

इस दौरान पूर्व छात्र विवेकानंद पाठक समेत कई छात्र घायल हो गए। छात्रों ने यूनिवर्सिटी के सुरक्षा गार्डों पर फायरिंग का आरोप लगाया और यूनिवर्सिटी कैंपस में खड़ी गाड़ियों के शीशे तोड़ने लगे। बवाल की सूचना मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गया और ईंट-पत्थर चला रहे छात्रों पर काबू पाने की कोशिश की जा रही है। अभी भी यूनिवर्सिटी कैंपस में कुछ छात्र तोड़फोड़ कर रहे हैं।

Also Read : IMD Alert : मौसम विभाग ने इन जिलों में जारी की चेतावनी, गरज-चमक के साथ होगी भारी बारिश

अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में छात्र संघ बहाली की मांग कर रहे छात्र छुट्‌टी का दिन होने के बावजूद छात्रों ने छात्र संघ भवन पर बंद ताले को खोलने की कोशिश की। इस दौरान यूनिवर्सिटी में तैनात सुरक्षा गार्ड्स ने उन्हें रोकने की कोशिश की, तभी दोनों पक्षों में विवाद हो गया। बवाल की सूचना मिलने के बाद प्रयागराज के पुलिस कमिश्नर रमित शर्मा खुद यूनिवर्सिटी पहुंच गए हैं और स्थिति को संभालने में जुट गए हैं।

जानिए क्या है बवाल की असली वजह

पुलिस का कहना है, ‘पूर्व छात्र नेता विवेकानंद पाठक कार से यूनिवर्सिटी के अंदर जा रहे थे, जिन्हें यूनिवर्सिटी के सिक्योरिटी गार्ड ने रोक लिया, फिर विवेकानंद ने सिक्योरिटी गार्ड को थप्पड़ मार दिया, जिस पर वहां मौजूद सभी सिक्योरिटी गार्डों ने विवेकानंद को मारा पीटा, सूचना पर यूनिवर्सिटी के छात्रों द्वारा इकट्ठा होकर सिक्योरिटी गार्डों के साथ मारपीट की, जिस पर सिक्योरिटी गार्ड द्वारा फायरिंग की गई।