ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे टीम को दिखा शिवलिंग, कोर्ट ने दिए आदेश

ज्ञानवापी से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है। सर्वे करने वाली आई टीम को मस्जिद के अंदर शिवलिंग मिला है। जैसे ही यह खबर आमने आई है वैसे ही वाराणसी(Varanasi) कोर्ट ने डीएम को ऑर्डर दिया कि जिस जगह पर शिवलिंग मिला है, उस जगह को तुरंत ही सील कर दिजीए।

ज्ञानवापी से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है। सर्वे करने वाली आई टीम को मस्जिद के अंदर शिवलिंग मिला है। जैसे ही यह खबर आमने आई है वैसे ही वाराणसी(Varanasi) कोर्ट ने डीएम को ऑर्डर दिया कि जिस जगह पर शिवलिंग मिला है, उस जगह को तुरंत ही सील कर दिजीए। कोर्ट ने डीएम, पुलिस कमिश्नर (Police Commissioner) और सीआरपीएफ कमांडेंट (CRPF Commandant) को ऑर्डर दिया है कि उस जगह पर किसी भी इंसान को आने की अनुमति नहीं है। कोर्ट ने अधिकारियों को कहा है कि इस जगह की सुरक्षित और रिज़र्व रखने की जिम्मेदारी आपके ऊपर है।

BIG NEWS : बनारस कोर्ट ने कहा ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे में जहां शिवलिंग मिला वो जगह सील करें, मुस्लिम पक्ष पहुंचा सुप्रीम कोर्ट - NEWSWING

Also Read – ज्ञानवापी मस्जिद के पुरातात्विक सर्वेक्षण के खिलाफ, हाईकोर्ट में याचिका

दरअसल, ज्ञानवापी में तीसरे दिन टीम सर्वे करने के लिए थी। बताया गया है कि वहां पर सर्वे करने वाली टीम को शिवलिंग दिखा है। उस सर्वे टीम में एक हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन मौजूद थे उन्होंने जैसे ही शिवलिंग देखा वैसे ही तुरंत वाराणसी कोर्ट में एप्लीकेशन दे दी। उस एप्लीकेशन में कोर्ट को बताया गया है कि यहां पर शिवलिंग मिला है। यह इस मामले की बहुत ही मज़बूत कड़ी है। सीआरपीएफ कमांडेंट को उस जगह को सील करने का ऑर्डर दिया गया है। सीनियर डिवीजन के जज रवि कुमार दिवाकर जल्द ही उस जगह को सील करने के लिए कहा है।

Also Read – Vegetable Price : 5 रुपए किलो मिल रही ये सब्जी, भिंडी, तोरई, करेला, लौकी, टमाटर भी हुए सस्ते, देखे रेट

सर्वे करके बाहर आए मुस्लिम पक्ष के वकील का कहना है कि फव्वारे को शिवलिंग बताया जा रहा है. मुस्लिम पक्ष के वकील की ओर से हिंदू पक्ष की दलीलों का खंडन किया गया है. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि वहां पर एक फव्वारा लगा हुआ है जिस की संरचना को शिवलिंग का नाम दिया जा रहा है.

17 मई को कोर्ट में सर्वे की रिपोर्ट पेश की जाएगी. हालांकि हो सकता है कि इस रिपोर्ट को तैयार करने में थोड़ा ज्यादा वक्त लग जाए. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि हम दावे से संतुष्ट नहीं हैं और इसके लिए हाईकोर्ट में अर्जी लगाएंगे. सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले को लेकर याचिका लगाई गई है जिस पर मंगलवार को सुनवाई होनी है.