‘ग्रिड से जुड़े उर्जा निर्माण के लिए यूनीडायरेक्शनल सोलर वाटर पंप’ शक्ति पंप को मिला अपना पहला पेटेंट

भारत में ऊर्जा कुशल पंपों और मोटर निर्माण करने वाली अग्रणी कंपनी, शक्ति पंप्स (इंडिया) लिमिटेड को उनके ‘ग्रिड से जुड़े उर्जा निर्माण के लिए यूनीडायरेक्शनल सोलर वाटर पंप’ के नवाचार के लिए उनका पहला पेटेंट मिला है

7 अप्रैल 2022: भारत में ऊर्जा कुशल पंपों और मोटर निर्माण करने वाली अग्रणी कंपनी, शक्ति पंप्स (इंडिया) लिमिटेड को उनके ‘ग्रिड से जुड़े उर्जा निर्माण के लिए यूनीडायरेक्शनल सोलर वाटर पंप’ के नवाचार के लिए उनका पहला पेटेंट मिला है, जो की कंपनी के लम्बे इतिहास में एक बेहद गौरव का क्षण है। पेटेंट एक्ट, 1970 के प्रावधानों के मुताबिक यह पेटेंट फाइल होने के 20 साल बाद तक कंपनी के नाम पर वैध रहेगा।

अपने पहले पेटेंट के साथ, शक्ति पंप्स ने अपने नवाचार की काबिलियत और दक्षतम उत्पादों को बनाने की अपनी काबिलियत को सिद्ध करते हुए भारत के सिंचाई क्षेत्र की ज़रूरतों को पूरा करने के प्रति अपने कर्तव्य का उदाहरण दिया है। यह अद्वितिव नवाचार सौर उर्जा आधारित होकर एक यूनी डायरेक्शनल पानी का पंप है, जो ग्रिड से जुड़कर उर्जा निर्माण करने की क्षमता रखता है।

Read More : Corona के नए वेरिएंट की दशहत, Gujrat में मिला XE Varient का मरीज

इसके अलावा, यह तकनीक पानी की जरूरत के अनुसार पंप के डिस्चार्ज को सीमित करने की अनुमति देती है और पानी और बिजली दोनों को बचाने में मदद करती है। इस यूनी डायरेक्शनल सोलर पंप का आविष्कार, उर्जा के सही उय्पोग को सुनिश्चित करते हुए, सोलर पैनल का उपयोग कर, ग्रिड को अतिरिक्त उर्जा भेजने का काम करता है। इसके साथ ही यह पंप सीमित उर्जा का उपयोग कर, उर्जा और पानी दोनों की बचत करता है।

इस नवाचार की परिकल्पना और इसका विकास शक्ति पंप्स की एक बेहद कुशल टीम द्वारा दिनेश पाटीदार, चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर, शक्ति पंप्स (इंडिया) लिमिटेड के नेतृत्व में किया गया, सर्वाधिक उर्जा कुशल और सस्टेनेबल पंपिंग समाधान प्रस्तुत करने के लक्ष्य से साथ। दिनेश पाटीदार, चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर, शक्ति पंप्स (इंडिया) लिमिटेड ने बताया कि – “हमारे शोध और विकास इकाई की इस बेहतरीन सफलता पर हमें बेहद गर्व और ख़ुशी है।

Read More : Maha Ashtami पर सुख-समृद्धि के लिए उज्जैन में शुरू हुई नगर पूजा, ऐसी है मान्यता

ये हमारा सतत प्रयास रहता है की रिसर्च और डेवलपमेंट में लगातार निवेश करते हुए, हम हमारे ग्राहकों की प्राथमिकताओं को समझें और उन तक उर्जा कुशल और सबसे आधुनिक नवाचार लेकर आए। मैं अपनी टीम का भी आभार व्यक्त करता हूँ, उनकी अथक महनत से मिले इस पहले पेटेंट के लिए। हालांकि ये शक्ति पंप्स का पहला पेटेंट है, लेकिन हमने 28 और पेटेंट के लिए आवेदन दे रखे है, जो यह दर्शाता है की हम रिन्यूएबल एनर्जी के क्षेत्र में नवाचार के लिए कितने प्रतिबद्ध हैं।”

शक्ति पंप्स देश की ऐसी पहली कंपनी है जिसने देश का पहला 100% स्टेनलेस स्टील पंप बनाया और 1996 से उर्जा कुशल मोटर बनाने की शुरुआत की। कंपनी को इसके साथ ही भारत का पहला बीईई 5 स्टार का दर्जा मिला और साथ ही और आज कंपनी के 260 से अधिक पंप के मॉडल है जो की ब्यूरो ऑफ़ एनर्जी एफिशिएंसी से 5 स्टार रेटेड हैं। अपने पंपिंग उद्योग के तीन दशकों से अधिक के अनुभव के साथ, शक्ति पंप्स विश्व में गुणवत्ता पर केन्द्रित, ऊर्जा कुशल पंपों निर्माण करने वाली अग्रणी कंपनी है।

भारत की कुसुम योजना में कंपनी की 40% हिस्सेदारी के साथ शक्ति पंप देश के पंपिंग क्षेत्र में भी एक मज़बूत स्थान पर है। कंपनी अपने रिसर्च और डेवलपमेंट के प्रोजेक्ट के तहत कुछ अत्याधुनिक और उर्जा कुशल पंप से जुड़े उत्पाद बनाने के लिए संकल्पित है। शक्ति पंप्स देश ही नहीं विश्व स्तर पर भी एक बड़ी और प्रतिष्ठित कंपनी है। कंपनी आधुनिक पंपिंग समाधान पेश करने और उच्च क्षमता वाले उत्पादों को विकसित करने के लिए सुप्रसिद्ध है। इसमें कृषि, औद्योगिक और वाणिज्यिक क्षेत्र के अनुरूप निर्मित उपकरण, सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप, इलेक्ट्रिक पंप आदि शामिल है।

Source : PR