भाजपा से चुनाव लड़ रही संघमित्रा इस बार सपा को देगी पटखनी | Sanghamitra can challenge the SP

0
189
Sanghmitra mourya

2019 लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में भाजपा के उम्मीदवारों में अब संघमित्रा ने भी अपनी जगह बना ली है। भाजपा ने अपनी इस सूची में कई नए चेहरों को शामिल किया हैं। यूपी के बदायूं क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी ने संघमित्रा मौर्य को बतौर उम्मीदवार घोषित किया है। भाजपा ने संघमित्रा को समाजवादी पार्टी का गढ़ माने जाने वाले क्षेत्र बदायूं से उतारकर एक अहम जिम्मेदारी सोपी है।

वर्तमान में बदायूं सीट से सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव सांसद हैं। संघमित्रा मौर्य को बदायूं के चुनाव मैदान में उतारकर भाजपा ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है।

must read: राम गोपाल वर्मा से अपने सेक्स संबंधों को लेकर चर्चित हुई थी उर्मिला मातोंडकर | Urmila Matondkar comes in discussion for her SEX relationship with Ram Gopal Verma

संघमित्रा मौर्य एक समय पर बसपा के काफी करीबी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी है। स्वामी प्रसाद मौर्य और संघमित्रा मौर्य बसपा के दिग्गज नेताओं की श्रेणी में थे, 2014 में दोनों ने एक साथ पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। पार्टी को छोडने की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी में मायावती के एक तरफा निर्णय लेने के कारण पार्टी से उनकी दूरी बनती जा रही थी जिसके चलते उन्होेंने पार्टी को छोड़ भाजपा में आने का फैसला लिया।

इसके पहले भी 2014 में संघमित्रा मौर्य सपा के मुख्य मुलायम के विरुद्ध बसपा से चुनाव लड़ा था, हालांकि उस चुनाव में वे तीसरे स्थान पर रही थी। इसके अलावा 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव में भी वो एटा जिले की अलीगंज विधानसभा सीट से सपा के खिलाफ बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ीं थी। हालांकि इन दोनों ही चुनाव में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा। इस लोकसभा चुनाव में भाजपा की और से संघमित्रा सपा को कड़ी चुनौती दे सकती है।

must read: मॉडलिंग कर रही मेनका को देखते ही संजय गांधी ने उन्हें अपना दिल दे दिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here