धर्मव्रत / त्यौहार

गणेश चतुर्थी : गणेश जी को अत्यंत प्रिय है ये प्रमुख चीज़ें, पूजा के दौरान जरूर करें अर्पित

गणेश जी को हिन्दू धर्म में सबसे प्रमुख देवताओं में गिना जाता है। श्री गणेश की आराधना हर शुभ काम के लिए की जाती है माना जाता है उनके आशीर्वाद के बिना शुभ काम अधूरे रह जाते हैं। वहीं गणेश चतुर्थी का इंतजार सभी लोग बड़ी ही बेसब्री से करते हैं। लेकिन अब ये इंतजार ख़त्म हो गया है। आज से गणेश चतुर्थी का त्यैहार शुरू हो गया है । आप भी बप्पा को अपने घर लाकर विराजमान करके उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

Ganesh visarjan

आपको बता दे, इस त्यौहार के आते ही हर कोई झूम उठता है। घर घर में खुशियों का माहौल बना रहता है। देश के कोने-कोने में यह त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं गणेश जी को सबसे ज्यादा कौन सी चीज़ें प्रिय है। अगर नहीं जानते है तो चलिए आज हम आपको बताने जा रहे है उन प्रिय चीज़ों की बारे में जो गणेश जी को अत्यंत प्रिय है। दरअसल, यदि आप बुधवार के दिन या चतुर्थी के दिन गणेश जी को उनकी पसंद की चीजें अर्पित करेंगे तो वह बहुत जल्द प्रसन्न होंगे और हमारी मनोकामनाएं पूरी करेंगे। हमारे पास धन-संपदा, ज्ञान आदि की कोई कमी नहीं रहेगी।

ये है वो प्रमुख चीज़ें –

गणेश जी को लाल रंग बहुत प्रिय है। इसलिए उन्हें पूजा के वक्त लाल रंग के पुष्प अर्पित करें। साथ ही उन्हें दुर्वा और शमी-पत्र सबसे अधिक प्रिय है। इसलिए उन्हें पूजा के वक्त दुर्वा जरूर अर्पित करना करना चाहिए। इससे वह बेहद प्रसन्न होते है।

इसके अलावा पाश और अंकुश ये दोनों श्री गणेश के प्रमुख अस्त्र है। उनके वाहन की बात करें तो सिंह, मयूर और मूषक उनके वाहन है। सतयुग में सिंह, त्रेतायुग में मयूर, द्वापर युग में मूषक और कलियुग में उनका वाहन घोड़ा बताया गया है।

पूजा करते समय श्री गणेश जी ये इस मंत्र का जाप जरूर करें : ॐ गं गणपतये नम: है. यह श्री गणेश का प्रमुख जप मंत्र है। वहीं भगवान श्री गणेश को बेसन और मोदक के लड्डू बहुत पसंद हैं। इसलिए ये भोग जरूर लगाएं।

भगवान श्री गणेश गणेशजी की प्रार्थना के लिए – श्री गणेश के प्रार्थना के लिए आपको गणेश स्तुति, गणेश चालीसा, गणेशजी की आरती, श्रीगणेश सहस्रनामावली आदि का पथ करना चाहिए।

गणेश जी के 12 प्रमुख नाम – सुमुख, एकदंत, कपिल, गजकर्णक, लंबोदर, विकट, विघ्न-नाश, विनायक, धूम्रकेतु, गणाध्यक्ष, भालचंद्र, गजानन ये श्री गणेश के 12 प्रमुख नाम है। जबकि बप्पा और देवा के नाम से भी श्री गणेश को ख़ूब पहचाना जाता है।