इंदौर। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने इंदौर में आज 17 वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में सहकारी गणराज्य गुयाना के राष्ट्रपति डॉ. मोहम्मद इरफ़ान अली से रू-ब-रू मुलाकात की मुलाकात की। राष्ट्रपति मुर्मू ने स्वागत करते हुए कहा कि गयाना के राष्ट्रपति डॉ. अली को 17 वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन के मुख्य अतिथि के रूप में पाकर प्रसन्नता हुई हैं।

राष्ट्रपति ने मुर्मु ने कहा कि भारत और गुयाना भौगोलिक रूप से चाहे दूर हो फिर भी दोनों में औपनिवेशिक अतीत और बहुसांस्कृतिक समाज की विशेषताएं एक जैसी है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीय गुयाना और भारत के बीच मित्रता की स्थायी कड़ी के रूप में कार्य करते हैं।

राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि हाल के वर्षों में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध मजबूत हुए हैं। भारत और गुयाना के बीच व्यापार भी संवर्धित हुआ है। गुयाना में तेल और गैस की हाल की प्रमुख खोजों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में गुयाना और भारत के बीच सहयोग आपकी धनबाद में आपसी संबंधों में वृद्धि की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि भारत के पास संपूर्ण तेल और गैस मूल्य श्रृंखला में अपेक्षित अनुभव और विशेषज्ञता है।

Also Read : Ujjain : विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने किए भगवान महाकाल के दर्शन, भस्म आरती में हुए शामिल

राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि भारत, गुयाना के साथ अपनी विकासात्मक साझेदारी को और सुदृढ़ करने का इच्छुक है। भारत को अपनी क्षमता निर्माण और प्रशिक्षण सहयोग को गहरा करने में भी खुशी होगी। राष्ट्रपति ने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय निकायों में भारत की उम्मीदवारी और वैश्विक मुद्दों पर भारत की प्राथमिकताओं को लगातार समर्थन देने के लिए गुयाना सरकार की सराहना की।