प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : उफान पर हैं गंगा और यमुना, जल स्तर में निरंतर वृद्धि , बढ़ रही खतरे के निशान की तरफ, जारी किया गया अलर्ट

ताजा जानकारी के अनुसार प्रयागराज शहर में स्थित गंगा और यमुना नदी के जलस्तर में बीते दो दिनों से बेतहाशा बढ़ौतरी देखी जा रही है। खतरे के निशान की तरफ बढ़ रहा है जल स्तर। प्रयागराज में अलर्ट घोषित।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का प्रयागराज शहर गंगा, जमुना और अदृश्य सरस्वती तीन नदियों के संगम स्थल पर बसा हुआ है। अवध क्षेत्र में आने वाले प्रयागराज (Prayagraj) को सनातन धर्म में उल्लेखित सभी तीर्थों का राजा कहा जाता है। ताजा जानकारी के अनुसार प्रयागराज शहर में स्थित गंगा और यमुना नदी के जलस्तर में बीते दो दिनों से बेतहाशा बढ़ौतरी देखी जा रही है। गौरतलब है कि गंगा और यमुना नदियों के जलस्तर में यह बढ़ौतरी प्रयागराज शहर में हुई बारिश की वजह से नहीं बल्कि उद्गम पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही अतिवृष्टि और ग्लेशियर के पिघलने की वजह से हो रही है।

Also Read-शेयर बाजार : एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस का पिछली तिमाही में नेट प्रॉफिट रहा 263 करोड़, छुआ 1304 रुपए का उच्च स्तर

खतरे के निशान की तरफ बढ़ रहा है जल स्तर

तीर्थराज प्रयागराज में स्थित गंगा और यमुना नदी का पिछले दो दिनों से बेतहाशा बढ़ता जलस्तर खतरे के निशान को किसी भी घड़ी छू सकता है। पहाड़ी राज्यों में हो रही अतिवृष्टि और ग्लेशियरों के पिघलने के साथ ही, जुड़े हुए राज्यों की नदियों पर बने बाँध खोले जाने से यह स्थिति प्रयागराज में निर्मित हुई है। हालांकि अभी स्थिति खतरे से बाहर और नियंत्रण में है और बाढ़ जैसे हालात नहीं बन रहे हैं, परन्तु प्रकृति के संदेशों को नजरअंदाज भी नहीं किया जा सकता है।

Also Read-इंदौर धर्म दर्शन :पंचकुइया क्षेत्र में स्थित है सिद्ध ‘वीर आलीजा हनुमान मंदिर’, 700 वर्षों से पहले की है स्थापना

प्रयागराज में अलर्ट घोषित

तीर्थराज प्रयागराज में स्थित गंगा और यमुना नदी में बढ़ते जल स्तर को देखते हुए प्रशासन के द्वारा संबंधित क्षेत्रों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। क्षेत्र के निचले इलाकों को खाली करा लिया गया है और नाविकों को भी सचेत कर दिया गया है। इसके साथ ही लाइफ सेविंग जैकेट्स की उपलब्धि भी खतरे को देखते हुए सम्पन्न कराइ गई है। इसके साथ ही बाढ़ जैसे हालात से निपटने की पूर्व तैयारियां भी प्रशासन के द्वारा कर ली गई है।