नितिनमोहन शर्मा

बोलबाले भिया। छा गए। सब तरफ अपन के इन्दौर चर्चे है। मोदीजी में तो मजे ला दिए भिया। छा गए गुरु अपन लोग तो। प्रधानमंत्री है भिया मोदी जी। पर उनकू भी पूरी ‘रमुज़’ थीं भिया अपन के इन्दौर के बारे में। हा नि तो। भिया पोहे जलेबी, कचोरी समोसे तो सबको पता है। पर भिया जैसे ‘उन्ने’ साबूदाने की खिचड़ी बोला, अपन ने तो वई मान लिया कि ‘अगले’ को अपन के इन्दौर की पूरी ‘झड़ती’ है भिया। नि तो तुम ही बताओ कि देश के किस शहर में साबूदाने की खिचड़ी ठेले पर रेडीमेड बिकती है? केवल अपन के इन्दौर में। फेर… है कि नि…मोदीजी को पूरी खबर अपन के इन्दौर की। भिया अपन के पीएम मोदी तो ” पक्का इंदौरी ” निकले। मजा आ गया।

Read More : प्रवासी भारतीय सम्मेलन LIVE: अंतिम सत्र में मेहमानों को संबोधित करेंगे ज्योतिरादित्य सिंधिया

भिया मोदीजी में तो अपन के इन्दौर के लिए एक नम्बर बोलवचन किये। भिया उनके बोलवचन ने अपन के इन्दौर को देश दुनिया मे इंडिया का ब्रांड बना दिया है। देख लेना भिया। अब अपन का इन्दौर रुकने वाला नि है। ‘ मेक इन इंडिया’ वाले मोदी जी ‘मेक इन इन्दौर’ का मंतर भी दे गए कि अपनी विशेषताओं को सहेज लो। और विकसित कर लो। उन्नत कर लो। देश ही नही, दुनिया में इन्दौर का डंका बजेगा।

Read More : प्रवासी भारतीय सम्मेलन LIVE: सभी मेहमानों की हुई कोरोना जांच, एक भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं

मोदीजी अपन के शहर में थे। मौका था प्रवासी भारतीय सम्मेलन का। 70 देशों से आये मेहमानों के लिए अपन न घर के ही नही, दिल के दरवाजे भी खोल दिये है। शहर तो ऐसे सजाया है जैसे घर मे बेटी का ब्याव हो। ‘चक चकाट’ कर दिया भिया। इन्दौर एक दम ‘पेटिपेक’ लग रिया। तभी तो भिया मेहमानों से ‘ज्यास्ति’ तो अपन के लोग होन घूम फिर ‘रिये’ है। इन्दौर ‘इत्ता’ बदल दिया कि जो यही ज पैदा हुए, वो भी इन्दौर ऐसे देखने जा रहे है जैसे इसके पेले ‘बांसवाड़े’ में रेते होयँगे। पर जो भी हो भिया। मजे आ गए। भरपल्ले आनंद ले रिये है भिया इंदौरी होन तो।

ऐसे ही आनंद में अपन के मोदी जी भी थे कल भिया। वो भी ‘पक्का इंदौरी, निकले भिया। अपन जैसे उन्ने भी ‘अपन का इन्दौर’ बोला। बार बार बोला। कई लोग तो ‘सम्पट’ ही भूल गए कि अरे मोदीजी तो इंदौरी हो गए…!! उनको अपन के यहां की शिकंजी भी याद है रे। पोहे, जलेबी, कचोरी, समोसा ओर शिकंजी याद करते हुए ये भी बोल गए कि इन्दौर एक दौर है जो समय से आगे चलता है। फिर भी विरासत को समेटे ‘रेता’ है। खानपान और सफाई में तो भिया मोदीजी में पूरी दुनिया मे अपन के इन्दौर को लाजवाब बताया। अपन के इन्दौर को स्वच्छता की राजधानी तो बताया ही, लगे हाथ स्वाद की राजधानी भी घोषित कर गए।

अब भिया ये अपन के ‘उप्पर’ है कि अपन मोदीजी का मान ओर मन दोनो रखे। अभी दो दिन ओर मेहमान यही ‘रैना’ है। उनको कोई कमीबेशी नि हो उसका ध्यान रखना। कल भोत सारे मेहमान अंदर नि जा पाए भिया। ‘भोत’ दुःख भी हुआ। पर क्या करे? पाँव रखने की अंदर ‘जगो’ नि थी। मुख्यमंत्री ने भिया माफी भी मांगी भिया कि जमीन पर ‘जगो’ कम रे गई लेकिन दिल मे तो ‘भोत’ जगह है। इत्ते बड़े काम मे भिया थोड़ी भोत कमी बेशी रे भी जाय।
तो भिया ये अपन के इन्दौर की बात है…ज्यादा ‘हाबले गाबले’ नि बनना..!! अब अपन के यहां भी कोई शादी ब्याह जो तो थोड़ी भोत कसर रे ही जाती हैं।

तो भिया…बचे दिनों के आनंद लो। मेहमानों को मान दो। ओर जो हो गया..उसे जान दो। और आगे की सुध लो। आज राष्ट्रपति मेडम आ री है। ओर फिर जी-20 देश के बड़े लोग। तो डट जाओ भिया फिर से। अपन के इन्दौर की शान की बात है।