कोरोना काल के बाद जब से पुरे देश में लॉकडाउन लगा तब से ऑनलाइन शॉपिंग का चलन काफी बढ़ गया है। अब ज्यादातर लोग अपने आप को संक्रमण से बचाने के लिए, समय बचाने के लिए अथवा बेहतर डिस्काउंट पाने के लिए फ्लिपकार्ट (Flipkart), अमेजन इंडिया (Amazon India) व मीशो(Meesho) जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से खरीदारी करते हैं। हालांकि, कई बार ग्राहक ऑनलाइन शॉपिंग करते समय गलतियां कर बैठते हैं, जिसके बाद उन्हें नुकसान झेलना पड़ता है। आज हम आपको यहां कुछ खास टिप्स देने जा रहे हैं, जिनका ध्यान आपको ऑनलाइन खरीदारी करते समय रखना होगा।

कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प चुनें

अगर आप ऑनलाइन ठगों से अपनी मेहनत की कमाई बचाना चाहते हैं, तो आप ऑनलाइन शॉपिंग करने के दौरान कैश ऑन डिलीवरी के विकल्प को चुनें। यह सबसे सुरक्षित तरीका है। इसमें आपको अपने बैंक के खाते की जानकारी दर्ज करने की जरूर नहीं होगी और ऑनलाइन धोखाधड़ी की संभावना भी कम हो जाएगी। कैश ऑन डिलीवरी के तहत जब आपके घर सामान आएगा, तभी आपको पेमेंट करनी होगी।

हमेशा रिव्यू पढ़कर करें निर्णय

अममून वेबसाइट पर दिखाई जाने वाली तस्वीरों से उनमें मौजूद खामियों का पता लगाना मुश्किल होता है। जबकि, इन दिनों कुछ ऑनलाइन कपड़ों में कुछ न कुछ खराबी सामने आ रही है। ऐसे में जरूरी है कि आप जो भी कपड़े खरीदने का मन बना रहे हैं उससे जुड़े रिव्यू जरूर पढ़ लें। इससे आप कपड़े की सही स्थिति जान पाएंगे और ब्लैक मार्केटिंग से भी बच सकेंगे।

बैंक खाते की जानकारी शॉपिंग वेबसाइट पर सेव न करें

ऑनलाइन शॉपिंग करने के बाद जब हम पेमेंट करने के लिए जाते हैं, तो हमारे पास सेव कार्ड डिटेल का विकल्प आता है। कई हम जल्दबाजी में यस ऑप्शन पर क्लिक कर देते हैं। इसके बाद हमारे क्रेडिट या डेबिट कार्ड जानकारी वेबसाइट पर सेव हो जाती है। हमें ऐसी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। हमेशा पेमेंट करते समय ध्यान रखें कि सेव कार्ड डिटेल के ऑप्शन को नो करें। ऐसा करने से आपके बैंक अकाउंट में जमा राशि सुरक्षित रहेगी।

रिटर्न पॉलिसी पर भी ध्यान देना है जरूरी

कई बार लोग ऑनलाइन कपड़े खरीद तो लेते हैं, लेकिन जब वह उनके हाथ में आते हैं तो यह महसूस होता है कि यह वैसा नहीं है, जैसे कि उन्होंने सोचा था। ऐसे में अगर किसी कपड़े पर ‘नो रिटर्न पॉलिसी’ होगी तो आपके पैसे यूं ही बर्बाद हो जाएंगे। इसलिए रिटर्न पॉलिसी के साथ-साथ एक्सचेंज और डिलीवरी टाइम आदि चीजें भी जरूर देखें। इससे आपको अच्छे कपड़े मिलने के साथ पैसे बर्बाद होने का खतरा भी कम हो जाएगा।

Also Read: Chattisgarh: दशहरे पर रावण के दसों सिर नहीं जलने पर नगर निगम कर्मचारी को किया गया निलंबित

फेक वेबसाइट से बचकर रहें

आजकल हैकर्स फर्जी वेबसाइट या मोबाइल ऐप बनाकर लोगों को अपना निशाना बना रहे हैं। ऐसे में फर्जी वेबसाइट की पहचान करना बहुत जरूरी है। अगर आपको नहीं पता है कि फर्जी वेबसाइट की पहचान कैसे की जाए, तो हम आपको एक तरीका बताएंगे। फर्जी वेबसाइट की पहचान करने के लिए यूआरएल को ध्यान से देखें।