आज सुबह से ही स्वयंसेवक अपनी शाखाओं पर ऊर्जा व उत्साह के साथ पहुंचे तथा परंपरा के अनुसार विजयादशमी शस्त्र पूजन का कार्य अतिथियों व संघ पदाधिकारियों के द्वारा सम्पन्न हुआ। प्रार्थना के पश्चात प्रचल की आज्ञा होते ही पंक्तिबद्ध पथ संचलन पूर्व निर्धारित मार्ग पर निकल चला। संघ के स्वयंसेवकों ने ही पूरे संचलन मार्ग की यातायात व्यवस्था को संभाला जिससे आमजनों को कोई असुविधा नही हुई।

इस दौरान सभी संचलनों में पुलिस अधिकारी भी उपस्थिति रहे तथा व्यवस्था में सहयोग करते रहे। आज इन्दौर के उत्तर, पूर्व व दक्षिण के जिले- बद्रीनाथ, जगन्नाथ व रामेश्वरम की लगभग 300 शाखाओं तथा महू ग्रामीण के कुछ पथ संचलन निकले जिसमें हजारों स्वयंसेवक सम्मिलित हुए।

Also Read : नशा मुक्ती अभियान को इन महान हस्तियों का मिला रहा है साथ, ये बोले गए क्रिकेटर

इस वर्ष बड़ी संख्या में युवा स्वयंसेवक संचलन में सहभागी रहे। जागृत हिन्दू समाज की शक्ति, अनुशासन, समरसता, संगठन तथा संस्कारों का सहज स्वरूप आज के पथ संचलन में देखा गया।

संगठित हिन्दू समाज का जो स्वरूप संघ के साल भर चलने वाले कार्यक्रमों में दृष्ट होता है, उसका सर्वाधिक दिव्य व गरिमामयी प्राकट्य विजयादशमी के पथ संचलन में समाज के समक्ष होता है।