अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मध्यप्रदेश में ‘योग आयोग’ का गठन, CM शिवराज ने किया एलान

मध्यप्रदेश में आज ‘योग आयोग’ का गठन , मध्यप्रदेश के स्कूलों में योग प्रशिक्षण प्रारंभ किया जाएगा

21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंगलवार को भोपाल में आयोजित योग समारोह में कहा कि राज्य में आज ‘योग आयोग’ का गठन कर दिया जाएगा और स्कूलों में भी बच्चों को योग की शिक्षा दी जायेगी।आठवें ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ पर यहां आयोजित मध्य्प्रदेश के मुख्य सामूहिक योग कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चौहान ने कहा बताया कि ‘‘मध्य प्रदेश में हम ‘योग आयोग’ बनाने जा रहे हैं। इससे संबंधित सभी व्यवस्थाएं भी हमने कर ली है। राज्य में आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर ‘योग आयोग’ का गठन किया जाएगा।’

Read More : MPPSC की परीक्षा में कश्मीर के विषय में पूछा गया विवादित प्रश्न, प्रश्नपत्र सेट करने वाले पर आयोग सख़्त

राज्य के स्कूलों में योग प्रशिक्षण प्रारंभ किया जाएगा

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने योग दिवस के अवसर पर बताया की योग को जीवन का अभिन्न अंग बनाने के लिए मध्यप्रदेश के स्कूलों में योग प्रशिक्षण प्रारंभ किया जाएगा। योग आयोग के गठन के बाद मेरी कोशिश रहेगी कि हम योग की शिक्षा के लिए स्कूल के शिक्षकों को सर्वप्रथम प्रशिक्षित करें। अंतरराष्ट्रीय योग संस्थान, पतंजलि योग संस्थान, ईशा योग फाउंडेशन, आर्ट ऑफ लिविंग एवं जितनी भी हमारी योग की प्रमुख संस्थाएं हैं, उनसे मैं अपील करूंगा कि बच्चों को योग अभ्यास कराने के लिए वे अपने योग्य योग प्रशिक्षक को मध्य्प्रदेश राज्य भेजें व योग के यथायोग्य प्रसार को सार्थक करें।

Read More : बच्चन परिवार में पड़े नन्हें कदम, एक बार फिर दादा बने Amitabh Bachchan

मुख्यमंत्री निवास स्थित परिसर में हुआ योगदिवस का मुख्य कार्यक्रम

आठवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास स्थित परिसर में हुआ और जहाँ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चयनित विद्यार्थियों व अन्य गणमान्य व्यक्तियों के साथ योग किया। पूर्व में यह कार्यक्रम भोपाल के ही लाल परेड मैदान में होना था, लेकिन भोपाल में सोमवार शाम को हुई भारी वर्षा और मौसम के वैज्ञानिकों के पूर्वानुमान अनुसार रात में भी बरसात की संभावनाओं को देखते हुए इसे मुख्यमंत्री निवास स्थित परिसर (पंडाल) में करने का निर्णय लिया गया।