पटना। पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव का गुरुवार को 75 साल की उम्र में गुरुग्राम के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। शरद यादव का अंतिम संस्कार आज मध्यप्रदेश के नर्मदापुरम जिले में उनके पैतृक गांव में किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक, दोपहर 1:30 के आसपास शरद यादव का अंतिम संस्कार होगा।

जनता दल यूनाइटेड के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव के निधन के बाद बिहार सरकार ने एक दिवसीय राजकीय शोक का ऐलान कर दिया है। लालू यादव और नीतीश कुमार को सीएम की कुर्सी तक पहुंचाने में शरद यादव का अहम योगदान था। हालांकि, बाद के दिनों में नीतीश कुमार से उनकी अनबन हो गई थी। लिहाजा उन्हें जदयू छोड़ना पड़ा था।

Also Read – आज पंचतत्व में विलीन होंगे शरद यादव, पैतृक गांव में होगा अंतिम संस्कार

शरद यादव की बेटी सुभाषिनी यादव ने ट्वीट कर लिखा- मेरे पिता स्व. शरद यादव के पार्थिव शरीर को दिल्ली से उनके पैतृक गांव आंखमाऊं, तहसील बाबई जिला होशंगाबाद में दिनांक 14 जनवरी 2023 को दोपहर 1.30 बजे अंतिम संस्कार (Funeral) के लिए ले जाया जायेगा। हम अपने दिल्ली निवास से सुबह 8.45 बजे चार्टर्ड विमान से भोपाल के लिए रवाना होंगे।

1 जुलाई 1947 को किसान परिवार में जन्मे शरद यादव भले ही अपने राज्य को छोड़कर उत्तर प्रदेश और बिहार की राजनीति में चले गए थे। लेकिन, उनका अपने पैतृत गांव से लगाव उतना ही था। उन्हें जब भी मौका मिलता था वो अपने गांव आते रहते थे। पुश्तैनी मकान से कुछ ही दूरी पर स्थित परिवार के ही खलिहान में उनके अंतिम संस्कार के लिए तैयारी की जा रही है। बिहार सरकार (Government of Bihar) ने शरद यादव के निधन पर शुक्रवार को राज्य में एक दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की है।