Breaking News

नुक्कड़ नाटक आत्महत्या क्यों का मंचन किया गया, वरिष्ठ पत्रकार अर्जुन राठौर की विशेष टिप्पणी

Posted on: 07 May 2018 04:15 by Ravindra Singh Rana
नुक्कड़ नाटक आत्महत्या क्यों का मंचन किया गया, वरिष्ठ पत्रकार अर्जुन राठौर  की विशेष टिप्पणी

इंदौर के लेखक फिल्मकार तथा रंगकर्मी श्री चंद्रशेखर बिरथरे द्वारा लिखित तथा निर्देशित नुक्कड़ नाटक आत्महत्या क्यों का आज प्रेस क्लब परिसर में मंचन किया गया। इस नाटक की थीम समाज में आज छोटी-छोटी बातों पर आत्महत्या कर लेने की घटनाओं पर आधारित है। आज समाज में आत्महत्या करने की प्रवृत्ति बढ़ती ही जा रही है आए दिन आत्महत्या की घटनाएं अखबारों में पढ़ने को मिलती है। कोई परीक्षा में फेल हो गया ,किसी को नंबर कम मिले।

किसी को प्यार में असफलता मिली । कहीं पर परिवार के विवाद हैं ,कहीं लोन नहीं चुका पाने का अवसाद है। इन सब को लेकर आत्महत्या की बढ़ती प्रवृत्ति पर कटाक्ष करते हुए यह नुक्कड़ नाटक यह संदेश देता है कि मनुष्य जीवन बड़े भाग्य से मिलता है अतः भले ही लाखों असफलताएँ मिले लेकिन मनुष्य को आत्महत्या की तरफ नहीं जाना चाहिए।

1

फिल्मी गीतों के माध्यम से भी यह बताया गया कि व्यक्ति को अपने जीने की प्रेरणा कभी भी समाप्त नहीं करनी चाहिए। श्री बिरथरे ने इस नाटक को लेकर बातचीत में कहा कि वे चाहते हैं कि इस नुक्कड़ नाटक का मंचन इंदौर के स्कूलों तथा प्रमुख स्थलों पर किया जाए ताकि इसके माध्यम से लोगों को जीने की प्रेरणा मिले और वह आत्महत्या जैसे गलत कदम की ओर नहीं जाए। उन्होंने कहा कि वे स्वयंसेवी संगठनों के सहयोग से भी इस का मंचन करने के लिए तैयार हैं इस नाटक की अवधि मात्र 15 मिनट की है और इसमें जिन कलाकारों ने काम किया है उनके नाम है पवन मंगरौरा दीप तिवारी जिमी, गौतम, सलोनी नीमा सुरभि नीमा।

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से समाज में सीधे-सीधे संदेश जाता है उनका कहना है कि उन्होंने पिछले 15 दिनों से लगातार रिहर्सल करके इस नाटक को तैयार किया है और इंदौर प्रेस क्लब में यह उनकी पहली प्रस्तुति थी।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com