MP News: रोहित शेखर हत्याकांड की आरोपी को ढाई साल बाद मिली जमानत

भोपाल। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर की आरोपी को ढाई साल बाद जमानत मिल गई है। आपको बता दें कि, रोहित शेखर हत्या के मामले में दिल्ली के साकेत सत्र न्यायालय ने आरोपित पत्नी अपूर्वा शुक्ला तिवारी को जमानत दे दी। आरोपी अपूर्वा ढाई साल से ज्यादा समय से जेल में थीं। दरअसल, अपूर्वा इंदौर हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष पीके शुक्ला की बेटी हैं। आपको बता दें कि, यह मामला 15 अप्रैल, 2019 का है। 15 अप्रेल साल 2019 की यह रात रोहित की आखिरी रात थी।

ALSO READ: Pension: फरवरी से पहले पूरा कर ले ये काम, नहीं तो रुक सकती है पेंशन

दिल्ली पुलिस की जांच में पता चला था कि रोहित शेखर और पत्नी अपूर्वा में संबंध अच्छे नहीं चल रहे थे। जिसके बाद 24 अप्रैल 2019 को पुलिस ने अपूर्वा को रोहित की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था। तब से लेकर अभी तक अपूर्वा जेल में थी। वहीं इस मामले में दिल्ली पुलिस ने अपूर्वा के खिलाफ 518 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया था। अपूर्वा की तरफ से जमानत के लिए कई बार प्रयास किए गए, लेकिन उन्हें जमानत नहीं मिली। जिसके बाद अब शुक्रवार को दिल्ली के साकेत सत्र न्यायालय ने उन्हें जमानत पर रिहा करने के आदेश दे दिए।

बता दें कि, शादी से पहले अपूर्वा दिल्ली में वकालत करती थीं और इसी दौरान उनकी मुलाकात रोहित से हुई। जिसके बाद दोनों ने स्वजन की सहमति से 2018 में दिल्ली में शादी की थी। साथ ही पुलिस से जुड़े सूत्रों की मानें तो पत्नी अपूर्वा के साथ चल रही अनबन के बारे में रोहित ने अपने इस दोस्त बताया था कि वह पत्नी से तलाक लेना चाहते थे। हो सकता है कि रोहित ने अपने वकील मित्र से इस बाबत सलाह भी ली हो। हालांकि कहा तो यहां तक जा रहा है कि रोहित ने अपूर्वा से तलाक लेने की बात पर भी अपने इस दोस्त के साथ चर्चा की थी।

साथ ही पुलिस ने अपने आरोप पत्र में बताया है कि अधिक शराब के नशे में होने चलते ही रोहित अपूर्वा से अपना बचाव नहीं कर सका। आरोप है कि अपूर्वा ने रोहित का गला दबाकर और मुंह पर तकिया रखकर उसे मौत के घाट उतार दिया था। पुलिस के मुताबिक, 15 अप्रैल को रोहित जब परिवार के अन्य सदस्यों के साथ वोट डालकर लौट रहे थे, उसी समय अपूर्वा ने वाट्सएप पर उन्हें कॉल की थी। इसमें वह कुमकुम के साथ एक ही गिलास में शराब पीते दिखे थे। रात करीब 10.30 बजे रोहित घर लौटे तो कार में कुमकुम भी बैठी थीं। रोहित के ड्राइवर अखिलेश कार चला रहे थे। पीछे की सीट पर एक तरफ रोहित, बीच में निगम (एनडी तिवारी के पीए रह चुके हैं) और दूसरी तरफ कुमकुम बैठी थी। घर आने के बाद रोहित ने अकेले, जबकि अन्य सभी ने एक साथ खाना खाया। इसके बाद रोहित की मां उज्ज्वला रात करीब 12 बजे राजीव व कुमकुम के साथ तिलक लेन स्थित घर चली गईं, जबकि रोहित ऊपर सोने चले गए।