मोदी सरकार को लगा झटका, प्रतिभा रैंकिंग में छह पायदान फिसला भारत

0
59
narendra modi

नई दिल्ली। भारतीय अर्थव्यवस्था के गिरते ग्राफ का असर वैश्विक स्तर पर देखने को मिल रहा है। हालांकि केंद्र सरकार की तरफ से बिगड़ती अर्थव्यवस्था की बात को नाकारा जा रहा है और पांच ट्रिलियन डाॅलर के कारोबार के लक्ष्य की ओर अग्रसर है। इसी बीच मोदी सरकार के लिए एक बुरी खबर निकलकर सामने आ रही है। आईएमडी की विश्व प्रतिभा रैंकिंग की नई सूची जारी की गई है। इसमें भारत छह पायदान फिसलकर 59वें नंबर पर पहुंच गया है। इससे पहले अच्छे प्रदर्शन के बल पर भारत 53वें नंबर पर बना हुआ था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक भारत की रैंकिंग गिरने का कारण कमजोर अर्थव्यवस्था, जीवन जीने की गुणवत्ता और शिक्षा पर खर्च की कमी बताया जा रहा है। विश्व प्रतिभा रैंकिंग की सूची में स्विट्जरलैंड पहले स्थान पर बना हुआ है, जबकि डेनमार्क दूसरे और स्वीडन तीसरे स्थान पर है। इसके बाद ऑस्ट्रिया, लक्जमबर्ग, नार्वे, आइसलैंड, फिनलैंड, नीदरलैंड्स और सिंगापुर का नंबर है। यह रैंकिंग तीन प्रमुख श्रेणियों के प्रदर्शन पर आधारित हैं, जिसमें निवेश व विकास, लोगों के बीच उसकी अपील और तत्परता शामिल है।

गुणवत्तापूर्ण जीवन में कमी, प्रतिभाओं को आकर्षित करने और उन्हें बनाए रखने में अर्थव्यवस्था की कम प्राथमिकता की वजह से भारत की स्थिति में गिरावट आई है। इधर, भारत ब्रिक्स देशों में भी पिछड़ गया है। सूची में चीन 42वें, रूस 47वें और दक्षिण अफ्रीका 50वें स्थान पर है। आईएमडी बिजनेस स्कूल स्विट्जरलैंड व सिंगापुर के वरिष्ठ अर्थशास्त्री जोस कैबलेरो ने कहा कि भारत की रैंकिंग में गिरावट के कई कारक रहे हैं। इसमें प्रति छात्र की शिक्षा पर खर्च और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा शामिल है। यह जीडीपी वृद्धि से जुड़ा है। कुछ और भी मुद्दे हैं, जो जीडीपी को प्रभावित करते हैं। जैसे प्रभावी स्वास्थ्य व्यवस्था और श्रम बल में महिलाओं का योगदान।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here