मध्य प्रदेश के मंडला जिले से बड़ा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है जहाँ प्रशासन ने गोलगप्पे बेचने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है। प्रशासन ने चाट और फुलकी की बिक्री के खिलाफ सख्त फैसला लिया। अब मंडला जिले में कोई भी ठेले पर चाट- फुलकी और गोलगप्पे नहीं बेच सकेगा।

अस्पताल में चल रहा है इलाज

दरअसल, मध्यप्रदेश के मंडला जिले में फुलकी यानी कि गोलगप्पे खाने से 100 से ज्यादा लोग बीमार हो गए। इसके बाद प्रशासन ने एहतियात बरतते हुए जिले में ठेलों पर फुलकी की बिक्री को प्रतिबंधित कर दिया है। मंडला एवं चिरईडोंगरी में गोलगप्पे खाने से 80 व्यक्तियों को उल्टी शिकायत हुई थी, जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है।

बता दें कि मंडला जिले के चिरईडोंगरी क्षेत्र के आधा दर्जन गांव में फुलकी खाने से शनिवार की शाम को कई लोग बीमार पड़ गए थे। उन्हें रविवार को जिला अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया था। फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुई लोगों की संख्या 100 से ऊपर हो गई थी, इनमें बच्चे और गर्भवती महिलाएं भी शामिल है।

Also Read: दुनिया के सबसे गंदे इंसान की हुई मृत्यु, 68 सालों से नहाया नहीं

अपर कलेक्टर मीना मसराम की ओर से जारी किए गए आदेश में कहा गया है, त्योहारों के अवसर पर हाट बाजारों में चाट फुलकी के ठेलों में खाद्य सामग्री पर साफ-सफाई का ध्यान नहीं दिया जाता, जिससे इसका सेवन करने से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ता है।