मध्य प्रदेश के ग्वालियर से एक बेहद ही हैरान करने वाले ममला सामना आया है। जहाँ एक महिला ने 4 पैर वाली बच्ची को जन्म दिया है। डॉक्टर्स के मुताबिक, मेडिकल की भाषा में इस स्थिति को इशियोपेगस कहते हैं। यह लाखों में से एक बच्चे को होती है और इसमें ज्यादा अंग विकसित हो जाते हैं।

फ़िलहाल इस बच्ची की जाँच कर रहे है यदि बच्ची पूरी तरह स्वस्थ्य हुई तो उसके बाकी के दो पैरों को निकाल दिया जाएगा जो कि निष्क्रिय है। सिकंदर कंपू इलाके की रहने वाली आरती ने बुधवार को चार पैर वाली इस बच्ची को जन्म दिया। बच्ची का वजन 2.3 किलोग्राम का है और बिल्कुल स्वस्थ है। बता दें डॉक्टर्स ने बच्ची को न्यू बॉर्न केयर यूनिट में रखा है और उसके टेस्ट किए जा रहे हैं ताकि पता चल सके कि वह पूरी तरह से स्वस्थ है या नहीं। आरती कुशवाहा की पहले से दो बेटियां हैं और अब उन्होंने चार पैर वाली बच्ची को जन्म दिया है।

क्या है इशियोपेगस?

बता दें, इशियोपेगस में नवजात में शारीरिक विकृति होती है और कुछ भ्रूण ज्यादा बन जाते हैं। जब भ्रूण दो हिस्से में बंट जाता है तो शिशु दो जगह विकसित होता है। इस बच्ची के दो पैर ज्यादा विकसित हुए हैं, लेकिन ये दोनों पैर काम नहीं कर रहे हैं। डॉक्टर ने कहा कि अगर कोई समस्या नहीं हुई तो ऑपरेशन करके बच्ची के अतिरिक्त दो पैर निकाल दिए जाएंगे।

परिवार कर रहा मदद की मांग

वहीं महिला के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण परिवार सरकार से आर्थक सहायता की मांग कर रहा है। जिससे बच्ची का ऑपरेशन कराया जा सके और बच्ची का इलाज हो सके।

Also Read : मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, इन 10 जिलों में गरज और चमक के साथ होगी भारी बारिश

बता दें इससे पहले 26 अगस्त को मध्य प्रदेश के शिवपुरी के पिछोर ब्लॉक की रहने वाली भावना पाल ने ऐसे ही एक बच्चे को जन्म दिया था। नवजात के सिर और दो हाथ आम इंसान की तरह थे, लेकिन उसके नीचे के धड़ में पैर नहीं सींग जैसी संरचना थी। इसकी वजह से उसका मल-मूत्र द्वार भी नहीं था।