संकट में ऑटो सेक्टर, गई 3.5 लाख नौकरियां

बिक्री में लगातार आ रही गिरावट से ऑटो कंपनियों के शोरूम बंद हो रहे हैं और बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है।

0
68
auto sector

नई दिल्ली: देश का ऑटो सेक्टर इन दिनों काफी संकट से जूझ रहा है। ऑटोमोबाइल्स की बिक्री में आई भारी गिरावट के चलते कई नौकरियां ख़त्म हो गई है। अप्रेल से अब तक इस सेक्टर में करीब 3.5 लाख लोगों की नौकरिया जा चुकी है। इसी को देखते हुए ऑटो सेक्टर के दिग्गजों ने जीएसटी में कटौती सहित कई तरह के प्रोत्साहन पैकेज देने की मांग की है।

ऑटो सेक्टर को इस संकट से उबरने के लिए बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ वाहन उद्योग के प्रतिनिधियों महिंद्रा ऐंड महिंद्रा के मैनेजिंग डायरेक्टर पवन गोयनका, मारुति के चेयरमैन आरसी भार्गव, हीरो मोटो के पवन मुंजाल सहित सियाम और फाडा के प्रतिनिधियों ने मुलाकात की थी। गुरुवार को महिंद्रा ऐंड महिंद्रा के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने जीएसटी रेट में कटौती करने की मांग की।

बता दे कि पिछले एक साल से ऑटो सेक्टर में बिक्री में गिरावट देखी जा रही है। ऑटो सेक्टर देश की जीडीपी में 7.1 फीसदी का योगदान देता है। बिक्री में लगातार आ रही गिरावट से ऑटो कंपनियों के शोरूम बंद हो रहे हैं और बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है। कारों-मोटरसाइकिलों पर 28 फीसदी का जीएसटी लगता है। इसके लिए इस उद्योग के लोग GST में कटौती की मांग कर रहे है।

इसके अलावा एनबीएफसी सेक्टर के दिक्कत में फंसने से नकदी का संकट, कमजोर मानसून, अर्थव्यवस्था में मंदी, खपत का कम होना, नौकरियों की कमी, पुराने वाहनों की संगठित बिक्री आदि की वजह से ऑटो सेक्टर पर मंदी की मार पड़ी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here