इंदौर(Indore) : सांसद , विधायक और नगर अध्यक्ष वाली भाजपा की कोर कमेटी ने नवनिर्वाचित महापौर पुष्यमित्र भार्गव के नेतृत्व में नई महापौर परिषद के गठन के लिए तैयारी शुरू कर दी है। कमेटी के सामने सबसे बड़ा सवाल यही है कि नई परिषद में किस किस को शामिल किया जाए। परिषद में एक महिला समेत 10 सदस्यों को शामिल किया जाना है जबकि दावेदारों की सूची बढ़ती जा रही है। इन सभी दावेदारों के नामों को आगामी दिनों में होने वाली कमेटी की बैठक में चर्चा होगी। महापौर की टीम में सीनियर ओर अनुभवी के साथ नए सदस्यों को भी मौका मिल सकता है।

शपथ के बाद
नई परिषद

नगर निगम चुनाव सम्पन्न होने के बाद महापौर का शपथ ग्रहण समारोह, नई परिषद का गठन ओर विपक्ष के नेता का चयन अगले कुछ दिनों में हो जाएगा। इसी सप्ताह से नई परिषद भी अपना काम शुरू कर देगी।

चौथी पारी होगी
राजेन्द्र राठौड़ की

प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक भाजपा ने एक महापौर पुष्यमित्र भार्गव के नेतृत्व में बनने वाली नई परिषद में सबसे अनुभवी तीन बार परिषद में रह चुके राजेन्द्र राठौर का रास्ता बिलकुल साफ है। उनके नाम पर ज्यादा विचार इसलिए नही होगा , क्योकि उनका सभापति बनना लगभग तय है। अगर किसी कारण से राजेन्द्र राठौड़ को सभापति बनाया तो उनके विकल्प के रूप में मुन्नालाल यादव को सभापति की कुर्सी दी जा सकती है। राजेन्द्र राठौर तीन बार एमआईसी में रह चुके है। इसमे दो बार स्वास्थ्य समिति के प्रभारी ओर एक सभी रहे। अब वे चौथी पारी खेलने जा रहे है।

Read More : क्या मां बनने वाली हैं Katrina Kaif? जानिए क्या है प्रेग्नेंसी का सच

एक पद के लिए
तीन महिला पार्षद

नई परिषद का गठन जल्द ही होने वाला है। एक्ट के मुताबिक परिषद में महिला और एक अनुसूचित जाति की 1 -1 सीट आरक्षित है।10 सदस्यों की इस परिषद में महिला पार्षद को शामिल किया जाएगा। मुद्रा शास्त्री , पूजा पाटीदार ओर कंचन गिदवानी दावेदार मानी जा रही है।

इनके नाम पर लग
सकती है मुहर

इस बार बहुत से नए पार्षद चुनकर आये है। उनमे से भी योग्यता के। आधार पर परिषद में लिया जा सकता है। राजेंद्र राठौड़ के अलावा मुन्नालाल यादव, पूजा पाटीदार , राजेश उदावत, अश्विनी शुक्ला ओर निरंजन सिंह प्रबल दावेदार माने जा रहे है।

Read More : भारतीय वायदा बाजार : महीनेभर के अपने न्यूनतम स्तर पर आया सोना, चाँदी की कीमत में भी आई औसत कमी

कौन होगा
विपक्ष का नेता

विगत 20 सालों से कांग्रेस विपक्ष की भूमिका निभा रही है। इस बार भी वह अगले पांच साल तक इसी भूमिका में रहेगी। ऐसे में नेता प्रतिपक्ष बनने को लेकर कांग्रेस में प्रबल दावेदार चिंटू चौकसे को माना जा रहा है। वे लगातार तीन
से चुनाव जीतते आ रहे हैं। 2010 में वे पार्षद बने और पिछली परिषद में पत्नी माधवी चौकसे पार्षद थीं। इस बार चुनाव जीतकर चिंटू फिर पार्षद बन गए है। इस कारण उनका विपक्ष का नेता बनना तय माना जा रहा है। पिछली बार फौजिया शेख विपक्ष की नेता थी। अगर कांग्रेस ने फिर से महिला को विपक्ष का नेता बनाया तो विनीतिक दीपू यादव का नाम सबसे आगे है।

इनमे से चुने जा
सकते है नई MIC
के सदस्य

विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 1
– अश्विनी शुक्ला
– पराग कौशल
– निरंजनसिंह चौहान गुड्डु
विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 2
– राजेन्द्र राठौर
– मुन्नालाल यादव
– पूजा पाटीदार
विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3
– सुरेश टाकलकर
– मनीष शर्मा मामा
– गजानंद गावड़े
विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 4
– कंचन गिदवानी
– कमल लड्डा
– योगेश गेंदर
विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 5
– राजेश उदावत
– प्रणव मंडल
– मुद्रा शास्त्री
विधानसभा राऊ
– बबलू शर्मा