अब कैसे कहेंगे मुस्कुराइए आप भाजपा में हैं….

0
32

बात 1998 की है। मप्र में विधानसभा चुनाव टिकट वितरण का दौर चल रहा था। कांग्रेस में टिकट वितरण के बाद विवादों की खबरें लगातार आ रहीं थीं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की संस्कार धानी से निकले एक वरिष्ठ भाजपा नेता के पास खबर की गरज से मैं बैठा था। कांग्रेस के इन हालातों पर वह गदगद थे। उनके चेहरे पर मुस्कान तैर रही थी। वह मुझे बता रहे थे कि इसलिए ही वह अपने नेताओं-कार्यकर्ताओं से कहते हैं – मुस्कुराइए आप भाजपा में हैं। उन्होंने मुझसे यह भी कहा था कि अगर आप किसी बड़ी खबर को पाने के इरादे से यहां आएं हैं तो आप गलत जगह आए हैं। खबर का मसाला तो इस वक्त कांग्रेस के किसी बड़े नेता के पास खूब मिलेगा।

बीस साल बाद आज हालात एकदम विपरीत हैं। कल इंदौर में भाजपा नेताओं के समर्थक टिकट वितरण से पहले एक-दूसरे से बीच सड़क पर दो-दो हाथ करते नजर आए। वह भी तब जब प्रदेश के मुखिया यानि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान शहर में जनता का आशीर्वाद मांगने निकले हुए थे। साफ है सत्ता के साथ जो दुर्गुण किसी भी राजनीतिक दल में खुद चलकर आते हैं वह भाजपा में भी ना केवल आ गये हैं बल्कि सड़क पर आम लोगों को साफ-साफ दिखाई भी देने लगे हैं।

Image result for इंदौर जन आशीर्वाद यात्रा में मारपीट

 

सबसे मजेदार बात यह है कि यह सब इंदौर के उस विधानसभा क्षेत्र क्रमांक तीन में हुआ जहां से ना केवल भाजपा की विधायक है बल्कि नगर अध्यक्ष भी इसी क्षेत्र का बरसों विधानसभा में प्रतिनिधित्व कर चुके हैं टिकट वितरण के पहले यह हाल है तो वितरण के बाद क्या होगा? यानि असली पिक्चर तो अभी बाकी है। बीस साल पहले की तरह क्या आज भाजपा का कोई नेता यह कहने की स्थिति में बचा है कि मुस्कुराइए आप भाजपा में हैं, नहीं ना। हां भाजपा के ये हालात देखकर कांग्रेस के किसी वरिष्ठ नेता के चेहरे पर आज मुस्कान जरूर हो शायद।

मुकेश तिवारी

([email protected])

लेख़क, वरिष्ठ पत्रकार और Ghamasan.com के संपादक है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here