Indore : संजय शुक्ला ने कोरोना काल मे मददगार बन कर जीता जनता का दिल

शहर सरकार का संग्राम अब निर्णायक शक्ल को धारण करने जा रहा है। पहली बार आमजनता में साफगोई के साथ यह स्वीकारोक्ति सुनने को मिल रही है

Indore : शहर सरकार का संग्राम अब निर्णायक शक्ल को धारण करने जा रहा है। पहली बार आमजनता में साफगोई के साथ यह स्वीकारोक्ति सुनने को मिल रही है कि महापौर की कुर्सी भाजपा कांग्रेस को नही बल्कि एक उस व्यक्ति को मिलेगी जो जनता के बीच जनसेवक बन कर खड़ा रहा है। भाजपा ने जिसे प्रत्याशी के रूप में दिया उसकी आमजनता में कोई पहचान नही बल्कि पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता बूथ देवतुल्य कार्यकर्ता के बीच कोई संवाद सरोकार नही रहा है। अचानक अवतरित नाम की पहचान आभाव ओर दुसरी ओर कांग्रेस प्रत्याशी संजय शुक्ला है।

Read More : Malaika Arora ने Arjun Kapoor को दी जन्मदिन की बधाइयां, खुद अपने हाथों से खिलाया केक

जिनके बारे में कहा जा रहा है पहला कांग्रेसी जो अयोध्या में रामलल्ला का भक्त है उसने कांग्रेसी होने के बावजूद हजारो लोगो को रामलल्ला के दर्शन करवाये है। कोरोना काल मे वह इकोलोते नेता रहे जो भोजन राशन ऑक्सीजन अस्पताल दवाइयां बाट रहे थे। भला ऐसा जनसेवक महापौर बनना चाहिए। भाजपा के परम्परागत वोटबैंक वाले क्षेत्रों में लोगो की मानसिकता पर यह बात अमिट होकर दिख रही है ओर वह साफगोई से स्वीकार करता है कि हम व्यक्तिगत रूप से संजय शुक्ला को वोट करेंगे।

Read More : Indore : शुक्ला जुबान के पक्के हैं, वे घोषणा वीर की तरह नहीं – सागर शुक्ला

संजय का मुस्कराता ओर प्रसन्नता के साथ जनता के बीच उपस्थित होने को लोगो ह्रदय परिवर्तन की वजह माना जा रहा है। पिछले तीन दिनों में बहुत से वार्डो में भाजपा के बगावत करने वाले निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी अपने प्रचार में कहना शुरू कर दिया है कि महापौर वोट संजय शुक्ला को दीजिये लेकिन पार्षद के लिए उन्हें अवसर दे दीजिये। जनता में अब यह बात बहुत गहराई से मन मस्तिष्क में घर करने लगी है कि संजय शुक्ला सहज सरल ओर हमारे अपने बीच का व्यक्ति है । इस बार दलीय कट्टरता को नही बल्कि एक सेवक को अवसर देगे।