विपिन नीमा

इंदौर। प्रवासी भारतीय सम्मेलन सम्पन्न हो गया है । भारत सरकार के इस सालाना आयोजन की सबसे प्रमुख बात यह रही कि पीएम मोदी का इंदौर के कल्चर पर दिया गया संबोधन। उनके इस संबोधन से 8 बार नाम लेकर पूरी दुनिया में इंदौर के खानपान की ब्रांडिंग हो गई। इस सम्मेलन में इंदौर की सजावट के साथ सबसे ज्यादा फोकस 56 दुकान ओर सराफा बाजार पर था , जो सफल रहा। विगत 3 दिन में डेढ़ से दो हजार प्रवासी भारतीयों 56 दुकान का विजिट किया। जबकि यही स्थिति सराफा चौपाटी की थी। खजराना गणेश मंदिर में भी प्रवासी भारतीयों ने दर्शन का लाभ लिया और 5 तरह के लड्डूओ का आनंद लिया।

56 दुकान

मोदी के संबोधन के बाद लगातार बढ़ती रही भीड़

शानदार सजावट ओर लाजवाब व्यंजनों के साथ प्रवासी भारतीयों ने खूब आनंद लिया। 7 से 10 जनवरी के बीच कैसा माहौल रहा इसके बारे में 56 दुकान व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष गुंजल शर्मा ने बताया कि विगत दिनों तक त्योहार जैसा माहौल था। पहले दिन थोडी भीड़ कम थी लेकिन अगले दिन पीएम मोदी  के संबोधन के बाद 56 दोपहर से लेकर रात 1 बजे तक भीड़ उमड़ती रही।

यही स्थिति तीसरे दिन भी रही। शर्मा ने बताया इन तीनो ही दिन प्रवासी भारतीयों ने यहां आकर भरपूर इंजॉय किया। उन्होंने बताया कि 56 दुकान की ओर आने वाले चारो तरफ के मार्गो को पुलिस ने नो व्हीकल जोन कर रखा था। उसके बावजूद भी भीड़ लगातार आती रही। इन तीन दिनों में लगभग 50 से 55 हजार लोंगो ने विजिट किया और फूल एंजॉयमेंट के साथ 56 भोग का आनंद लिया।

सराफा चौपाटी

हर सोमवार को भीड़ कम रहती है, लेकिन इस बार धूम मच गई

अक्सर सोमवार को सराफा चौपाटी में भीड़ बहुत कम रहती है ,लेकिन 9 जनवरी के सोमवार को मोदी के कारण यहां पर पेर रखने की जगह नही थी। यह जानकारी रात्रिकालीन सराफा चौपाटी एसोसिएशन के अध्यक्ष राम गुप्ता ने दी। उन्होंने बताया कि इन तीन दिनों में बाजार में काफी धूम रही। कई देशों के प्रवासी भारतीयों ने यहाँ आकर तरह तरह मीठे व चटपटे व्यंजनों का लुफ्त उठाया।

मेहमानों का एसोसिएशन की तरफ से स्वागत भी किया गया। गुप्ता ने बताया कि वैसे आमतोर पर सोमवार को सराफा चौपाटी में भीड़ कम रहती है और व्यापार भी कम होता है , लेकिन इस सोमवार मो मोदी  के संबोधन के बाद रात होते होते सराफा चौपाटी में इस कदर भीड़ उमड़ी की पैर रखने की जगह नही मिली। इन तीनो में बाजार में 35 से 40 हजार लोंगो ने विजिट किया और हर तरह के स्वाद का आनंद लिया।

खजराना गणेश मंदिर

मेहमानों को दिए गणेश के चांदी की तस्वीर और लड्डू के पैकेट

प्रवासी भारतीय सम्मलेन में आए सैकड़ों भारतीय खजराना गणेश मंदिर में प्रथम पूजनीय भगवान गणेशजी की शरण मे आए और आशीर्वाद प्राप्त किया। मंदिर में तिल चतुर्थी उत्सव भी मनाया गया ।इस उत्सव के कारण मंदिर में श्रद्धालुओं की जमकर भोड़ उमड़ी। मंदिर में 250 से अधिक एनआरआई ने मंदिर का दौरा किया और भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त किया। मंदिर में एक सुंदर डेस्क बनाई गई थी। प्रबंधक घनश्याम शुक्ला, मुख्य पुजारी अशोक भट्ट ने सभी एनआरआई का स्वागत एक सुंदर दुपट्टा, भगवान गणेश की चांदी की तस्वीर और लड्डू के पैकेट के साथ दो आगंतुक पुस्तिका में एनआरआई ने मंदिर समिति द्वारा की गई व्यवस्था की सराहना करते हुए अपनी टिप्पणी व्यक्त की।

स्वाद की राजधानी

इंदौर को मिला एक ओर का दर्जा

इंदौर के साथ नए नए नाम जुड़ते जा रहे है। प्रदेश का सबसे बड़ा बिजनेस सेंटर होने के नाते इंदौर को प्रदेश की ओधोगिक राजधानी कही जाती है। खेलों में भी राष्ट्रीय अंतराष्ट्रीय स्तर पर नाम होने पर खेलो की राजधानी भी कही जाती है। स्वच्छता में लगातार सफलता से देश का मॉडल बना। अब इंदौर को एक ओर राजधानी बनने का दर्जा मिल गया है। ये दर्जा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया है। प्रवासी भारतीय सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन में इंदौर के खानपान की तारीफ करते हुए इसे स्वाद की राजधानी बताया। मोदी ने पूरी दुनिया के सामने सराफा ओर 56 दुकान की ऐसी ब्रांडिंग की कि दोनो बाजार चर्चा में आ गए।

Also Read: इंदौर की ‘मिजमानी’ में लगे चार चांद, गदगद होकर लौटे ‘जजमान’