Indore: झाबुआ में फर्जी बिल से की 5 करोड़ की धोखाधड़ी, जांच के बाद आदिम जाति विभाग के प्रबंधक पर केस दर्ज

आर्थिक आपराध प्रकोष्ठ इकाई इंदौर की निरीक्षक लीना मरोठ ने बताया कि आदिम जाति कल्याण विभाग जिला झाबुआ में पदस्थ सुनील तलेले प्रबंधक के विरुद्ध शिकायत प्राप्त हुई थी कि उन्होंने फर्जी बिल बनाकर जिला झाबुआ में संचालित (टीसीपीसी) प्रशिक्षण उत्पादन केंद्र हेतु लोहे की सामग्री पलंग,अलमारी टेबल कुर्सी आदि के निर्माण में आवश्यक कच्ची सामग्री खरीदी गई है।

Indore: आर्थिक आपराध प्रकोष्ठ इकाई इंदौर ने झाबुआ में आदिम जाति विभाग के प्रबंधक के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। प्रबंधक ने फर्जी बिल के माध्यम से 5 करोड़ से अधिक की राशि का गबन कर शासन को आर्थिक नुकसान पहुंचाया है।

Must Read- Indore: जनसंपर्क में महावीर जैन ने जनता को दिलाया भरोसा, बोले- आपके जनसेवक के रूप में हमेशा उपलब्ध रहूंगा

आर्थिक आपराध प्रकोष्ठ इकाई इंदौर की निरीक्षक लीना मरोठ ने बताया कि आदिम जाति कल्याण विभाग जिला झाबुआ में पदस्थ सुनील तलेले प्रबंधक के विरुद्ध शिकायत प्राप्त हुई थी कि उन्होंने फर्जी बिल बनाकर जिला झाबुआ में संचालित (टीसीपीसी) प्रशिक्षण उत्पादन केंद्र हेतु लोहे की सामग्री पलंग,अलमारी टेबल कुर्सी आदि के निर्माण में आवश्यक कच्ची सामग्री खरीदी गई है तथा टीसीपीसी की केशबुक और रजिस्टर में झूठा खर्चा दिखाकर नियम के विरुद्ध कार्य कर करोड़ों की राशि का गबन कर शासन को आर्थिक हानि पहुंचाई उक्त शिकायत का सत्यापन धनंजय शाह पुलिस अधीक्षक आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ इंदौर इकाई द्वारा इकाई में पदस्थ निरीक्षक  लीना मारोठ से कराया गया जिन्होंने अपनी जांच में पाया कि सुनील तलेले प्रबंधक आदिम जाति कल्याण विभाग जिला झाबुआ ने फर्नीचर निर्माण हेतु कच्ची सामग्री को किया गया। जिन्होंने अपनी जाँच में पाया कि सुनील तलले, प्रबंधक, आदिम जाति कल्याण विभाग जिला झाबुआ मप्र के द्वारा वर्ष 2010-11 , 2011-12 , 2012-13 2013-14 में निविदा की दर मे निविदा का जिनकी दरे न्यूनतम अनुमोदित की गयी के अतिरिक्त अन्य निविदाकार से जो कि न्यूनतम दर के है से बिना सहमति के व सक्षम अधिकारी तात्कालीन सहायक आयुक्त से अनुमोदन प्राप्त किये बिना फर्नीचर निर्माण हेतु कच्ची सामग्री को कय किया गया है। दिनांक 12.02.2014 से 26.09 . 2021 तक के बैंक स्टेटमेंट के परीक्षण से पाया कि आरोपी सुनील तलेले के द्वारा फर्नीचर प्रदाय व अन्य शासकीय प्रदाय के लिये शासन पक्ष की ओर से कुल जमा राशि रुपए 88,18,962 ( पुर्व का जमा 19,15,614 रहित ) प्राप्त हुई होकर इस राशि में से संस्था प्रबंधक के द्वारा वित्तीय वर्ष मे कच्चा माल सामग्री व अन्य कार्य हेतु राशि रुपए 96,37,089 का व्यय करते हुए राशि 21,60,121 की राशि की निकासी टू – केश ( स्वयं द्वारा आहरित ) की गयी है । वित्तीय वर्ष 2015-16 में राशि रुपए 3,54,01.296 / -प्राप्ति होकर राशि रुपए 1,69,19,253 का व्यय पार्टियों को व 18,71,330 का आहरण टू केश के रूप में बैंक खाते से किया गया है । वर्ष 2016-17 में राशि रुपए 66,39,510 प्राप्ति होकर राशि रुपए 2,29,33,920  का व्यय पार्टियो को व 8,96,730 का आहरण टू केश के रूप में बैंक खाते से किया गया है तथा वर्ष 2017-18 में राशि रुपए 51,40,835 प्राप्ति होकर राशि रुपए 46,12,171 का व्यय पार्टियो को व 7.30,750 का आहरण टू केश के रूप में बैंक खाते से किया गया है। इस प्रकार वित्तीय वर्ष 2014-15 से 2019-20 तक शासन से प्राप्त कुल राशि 5,60,11,990 व पूर्व से जमा राशि 19,15,614 रू इस प्रकार कुल राशि 5,79,26,311 रू खर्च करना पाए गए। सुनील तलेले द्वारा अपने पद का दुरूपयोग कर छलपूर्वक जानबूझकर अपराधिक षडयंत्र कारित करते हुय राशि 5,79,26,311 रू का गबन कर वित्तीय अनियमितता किया जाना प्रथम दृष्टया सिद्ध पाये जाने से अपराध कमांक 69/2022 , धारा- 420 , 409 भा.द.वि. एवं धारा -7 ( सी ) 13 ( 1 ) . 13 ( 2 ) भ्र.नि.अधि . संशो 2018 के तहत पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।