इंदौर : आयुक्त ने ली राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक, 30 सितंबर तक कार्य पूर्ण करने के दिए निर्देश

आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा राजस्व वसुली की समीक्षा बैठक सीटी बस आफिस में ली गई। बैठक में अपर आयुक्त भव्या मित्तल, समस्त सहायक राजस्व अधिकारी, बिल कलेक्टर, सहायक बिल कलेक्टर व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

इन्दौर(Indore) : आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा राजस्व वसुली की समीक्षा बैठक सीटी बस आफिस में ली गई। बैठक में अपर आयुक्त भव्या मित्तल, समस्त सहायक राजस्व अधिकारी, बिल कलेक्टर, सहायक बिल कलेक्टर व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा राजस्व वसुली के तहत संपतिकर, जलकर, टेªड लायसेंस की झोनवार समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान लक्ष्यानुरूप राजस्व वसुली कम होने पर लक्ष्य अनुरूप राजस्व वसुली करने के सहायक राजस्व अधिकारी और बिल कलेक्टरो को निर्देश दिये गये।

Read More : Indore Khandwa Highway : चेतावनी के बावजूद दिखी जनता की लापरवाही, मोरटक्का में नर्मदापुल पर अपनी जान से खेलती मिली भीड़

इसके साथ ही निगम द्वारा शहर की संपतियों का पूर्व में जीआईएस सर्वे कराया गया है, जिसके अंतर्गत वर्तमान में संपति की साईज, संपति का उपयोग आदि की जानकारी जीआईएस सर्वे रिपोर्ट में उल्लेखित है। आयुक्त प्रतिभा पाल द्वारा समीक्षा बैठक के दौरान जीआईएस सर्वे के दौरान 5 हजार स्के.फीट से अधिक क्षेत्रफल की ऐसी संपतियां जिनके द्वारा वास्तविकता से कम साईज का संपतिकर व अन्य कर जमा किया जा रहा है, ऐसी संपतियों की सर्वे अनुसार मांग संशोधित कर डिमांड में परिवर्तन करने हेतु प्रकरण तैयार कर आगामी कार्यवाही हेतु निगम मुख्यालय में 30 सितम्बर 2022 तक प्रकरणे भेजने के निर्देश दिये गये है।

Read More : दिल्ली में बड़ रहें कोरोना के मामलें में नया खुलासा, ये बड़ी लापरवाही आई सामने

इसके साथ ही जीआईएस सर्वे में 2 हजार से 5 हजार स्क.फीट तक की लगभग 39,267 संपतियां है, जिनका टैक्स वास्तविक साईज से कम जमा किया जा रहा है तथा इसी प्रकार मौके पर संपति का व्यवसायिक उपयोग किया जाकर निगम में आवासीय संपति का संपतिकर कराया जा रहा है, ऐसी 21571 संपतियों जीआईएस सर्वे में पाई गई है, इन संपतियों की डिमांड में परिवर्तन करने हेतु एवं जीआईएस सर्वे में लगभग 1 लाख से अधिक ऐसी संपतियां पाई गई है जिनके खाते खुलना शेष है, इन संपतियों के खाते खोलने हेतु प्रकरण तैयार करके आगामी 30 सितम्बर तक खाते खोलने हेतु निगम मुख्यालय में प्रकरण भेजने के निर्देश दिये गये।