देशमध्य प्रदेश

कोरोना मरीजों की संख्या ना बढ़े इसलिए सांसद ने खुद ही कंट्रोल रूम जाकर की अधिकारियों से बात

इंदौर : लॉकडाउन में छूट मिलने के पहले दिन ही सांसद शंकर लालवानी कंट्रोल रूम पहुंच गए और व्यवस्थाओं का जायजा लिया। सांसद की सबसे बड़ी चिंता ये है कि लॉकडाउन के बाद कोरोना के मरीजों की संख्या ना बढ़े इसलिए सांसद ने खुद ही कंट्रोल रूम जाकर अधिकारियों से बात की। शहर में लॉकडाउन लगने के पहले से सांसद शंकर लालवानी लगातार कोरोना के मोर्चे पर सक्रिय है और लॉकडाउन के दौरान भी सांसद लगातार हर मोर्चे पर सक्रिय दिखाई दिए। अब लॉकडाउन में छूट के ऐलान के साथ ही सांसद सबसे पहले जीएसआईटीएस स्थित कंट्रोल रूम पहुंचे। सांसद ने यहां विस्तार से अधिकारियों से बात की और डाटा के आधार पर लॉकडाउन के विभिन्न चरणों में मरीजों की संख्या जानी।

सांसद ने पूछा कि लॉकडाउन में छूट का मरीज़ों पर क्या असर होगा ताकि आने वक़्त की योजना बनाई जा सकें। जीएसआईटीएस स्थित कंट्रोल रूम कोरोना की जंग में देश के सबसे आधुनिक नियंत्रण व्यवस्थाओं में से एक है। यहां शहर में किए गए सर्वे के आधार पर सर्दी, खांसी की शिकायत वाले मरीजों की मॉनीटिरिंग करने का काम होता है। यहां कंटेन्मेंट एरिया पर भी लगातार नज़र रखी जाती है। इन्हीं आंकड़ों के आधार पर ज़िला प्रशासन योजनाएं बनाता है। इस कंट्रोल रूम से कोविड कॉल सेंटर भी चलाया जाता है जहां से पॉजिटिव मरीज़ों की कांटेक्ट ट्रेसिंग भी होती है। सांसद ने यहां काम कर रही टीम से जाना कि मरीज़ों का व्यवहार उनके साथ कैसा होता है, मरीज़ अपनी हिस्ट्री बताने में संकोच करते हैं या आसानी से बता देते हैं।

सांसद ने यहां चलाए जा रहे होम आइसोलेशन कंट्रोल सेन्टर का भी जायजा लिया। होम आइसोलेशन के मरीजों की निगरानी के लिए ये देश का सबसे आधुनिक कंट्रोल सेंटर है जहां एप के माध्यम से सारी चीजें कंट्रोल की जा रही है। शासन की ओर से हर होम आइसोलेशन कर रहे पॉजिटिव व्यक्ति को पल्स और ऑक्सिमीटर दिया जा रहा है और हर 4 घन्टे में उन्हें एप के माध्यम से अपनी जानकारी साझा करनी होती है। साथ ही हर 4 घन्टे में डॉक्टर इन मरीज़ों पर निगाह रखते हैं और बात भी करते हैं। यदि किसी मरीज़ की पल्स या ऑक्सीजन के लेवल में गड़बड़ी दिखाई देती है तो रैपिड रेस्पॉन्स टीम को भेजकर मरीज़ को अस्पताल पहुंचाया जाता है।

अब तक 5 मरीज़ों को इस तरह से बचाया गया है। इस दौरान सांसद ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज़ से बात की और हालचाल जाने। सांसद ने कहा कि आने वाले वक्त में अगर मरीज़ों की संख्या बढ़ती है तो होम आइसोलेशन की व्यवस्थाएं बेहतर करना ज़रुरी है। सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि ‘शहर में लॉकडाउन में छूट देने के साथ ही व्यवस्थाओं को देखना ज़रुरी है। आने वाले समय मे किसी भी चुनौती से निपटने के लिए आज मैंने व्यवस्थाएं देखी और इस संदर्भ में अधिकारियों से मैं बात करुंगा’