breaking newstrendingअन्य

चीन से निपटने को तैयार भारत, सेना को खुली छूट, बातचीत भी रहेगी जारी

नई दिल्ली: पिछले करीब एक महीने से लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर चल रहा तनाव गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद और बढ़ गया है। 20 जवानों की शाहदत के बाद देश में काफी गुस्सा है और चीन का विरोध हो रहा है। इसको देखते हुए अब सरकार ने भी चीन के खिलाफ सख्त रूप अपना लिया है। इतना ही नहीं अब सरकार चीन से निपटने के लिए हर तरह से तैयार है।

सरकार ने सेना को खुली छूट दे दी है। अगर चीनी सैनिक उकसाएं तो उन्हें माकूल जवाब दिया जाए। मौजूदा विवाद को लेकर रविवार को भी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुखों से चर्चा की थी। सूत्रों की मानें, तो सरकार की ओर से सेना को साफ कर दिया गया है कि वह कोई भी एक्शन ले सकते हैं।

सरकार ने सेना को खुली छूट दे दी है। अगर चीनी सैनिक उकसाएं तो उन्हें माकूल जवाब दिया जाए। मौजूदा विवाद को लेकर रविवार को भी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुखों से चर्चा की थी। सूत्रों की मानें, तो सरकार की ओर से सेना को साफ कर दिया गया है कि वह कोई भी एक्शन ले सकते हैं।

दूसरी ओर भारत ने शांति की कोशिशों को बरकरार रखा है। सूत्रों की मानें, तो इस हफ्ते दोनों देशों के बीच एक बार फिर सैन्य और डिप्लोमेटिक लेवल की बातचीत हो सकती है। इस बातचीत में मौजूदा तनाव को दूर करने, सैनिकों को पीछे करने और अप्रैल से पहले की स्थिति को लागू करने पर चर्चा हो सकती है।

दूसरी ओर भारत ने शांति की कोशिशों को बरकरार रखा है। सूत्रों की मानें, तो इस हफ्ते दोनों देशों के बीच एक बार फिर सैन्य और डिप्लोमेटिक लेवल की बातचीत हो सकती है। इस बातचीत में मौजूदा तनाव को दूर करने, सैनिकों को पीछे करने और अप्रैल से पहले की स्थिति को लागू करने पर चर्चा हो सकती है।