देश

सरकारी और अर्द्धसरकारी स्थलों को सैनिटाइज करेगा नगर निगम, दरें जारी

इन्दौर। आयुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि कोविड-19 के अंतर्गत मार्च, 2020 से प्रभावशील लाॅकडाउन के कारण इंदौर नगरीय क्षेत्र के समस्त शासकीय, अर्द्धशासकीय, निजी कार्यालयों के साथ-साथ, धार्मिक स्थल भी बंद रहे है, वर्तमान में जिला प्रशासन के स्तर से इन कार्यालयों को प्रारंभ करने की दी गई अनुमति के कारण ऐसे कार्यालयों/स्थलों पर नागरिकों के आवागमन में वृद्धि हुई है, इसको एवं कोरोना वायरस के संक्रमण के बचाव की दृष्टि से ऐसे कार्यालयों/स्थलों से कार्यालय/स्थल सेनेटाईज करने की मांग में वृद्धि हुई है।

आयुक्त पाल द्वारा निगम की वित्तीय स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए आदेश जारी कर निगम द्वारा समस्त शासकीय, अर्द्धशासकीय, निजी कार्यालयों व्यवसायिक एवं वाणिज्य स्थल भवन परिसर के साथ-साथ, धार्मिक स्थल धर्मशाला व अन्य आवेदनकर्ताओं हेतु निम्नानुसार प्रतिवर्गफुट शुल्क निर्धारित करते हुए सेनेटाईजशन संबंधी कार्य करने की व्यवस्था नियत की जाती है-

आवासीय क्षेत्र एवं धार्मिक स्थल -10 पैसे प्रति वर्गफीट एवं न्यूनतम 500 रूपये, (जो भी अधिक हो)

समस्त शासकीय, अर्द्धशासकीय कार्यालय एवं व्यवसायिक तथा वाणिज्यिक स्थल/परिसर -15 पैसे प्रति वर्गफीट एवं न्यूनतम 800 रूपये, (जो भी अधिक हो)

उल्लेखित व्यवस्था के अंतर्गत आवेदक की ओर से क्षेत्रफल दर्शाते हुए स्पष्ट नाम, पते एवं संपर्क नंबर के साथ निगम के 311 एप्प पर आवेदन किया जावेंगा, जिसके आधार पर संबंधित झोन क्षेत्र के प्रभारी मुख्य स्वच्छता निरीक्षक (सी.एस.आई.) के द्वारा आवेदनकर्ता से व्यक्तिगत संपर्क कर आवेदन में दर्शाये गये आवासीय, धार्मिक, शासकीय, अर्द्धशासकीय कार्यालय एवं व्यवसायिक तथा वाणिज्यिक स्थल, भवन, परिसर क्षेत्र हेतु उपरोक्त अनुसार शुल्क राशि प्राप्त कर आवेदक की कार्य से पूर्व रसीद काटकर सेनेटाईजेशन कार्य हेतु अमले को संसाधन सहित भेजा जावेंगा।

यह स्पष्ट किया जाता है कि आवेदक द्वारा दर्शाये गये क्षेत्रफल से अधिक क्षेत्रफल की स्थिति निर्मित होती है तो अतिरिक्त क्षेत्रफल की राशि आवेदक से कार्य से पूर्व ही जमा कराई जाकर कार्य कराया जावेगा।आवेदक द्वारा प्रस्तुत आवेदन के उपरांत अधिकतम एक या दो दिन की अवधि में आवेदक के प्रस्तावित स्थल पर सेनेटाईजेशन कराने का उत्तरदायित्व क्षेत्रीय प्र. मुख्य स्वच्छता निरीक्षक का होगा।

इसके साथ ही समस्त सी.एस.आई. के द्वारा झोनवार प्रतिदिन किये जाने वाले सेनेटाईजेशन संबंधी कार्य की लिखित रिपोर्ट प्रतिदिन स्वास्थ्य अधिकारी के माध्यम से प्रभारी अधिकारी, स्वास्थ्य कन्ट्रोल रूम को प्रस्तुत की जावेंगी, जिनके द्वारा समीक्षा उपरांत संकलित रिपोर्ट अपर आयुक्त (स्वास्थ्य) को दी जावेंगी। क्षेत्रीय स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा भी समय-समय पर सेनेटाईजश्षन संबंधी कार्य का पर्यवेक्षण किया जावेंगा। आयुक्त सुश्री पाल द्वारा नागरिकों से अनुरोध किया है कि कोविड 19 से बचाव हेतु अपना अमूल्य सहयोग प्रदान करें।