मध्य प्रदेश

शंकर लालवानी का ऐलान, इंदौर में जल्द शुरू होगा कंस्ट्रक्शन

इंदौर: इंदौर शहर की सीमा में आने वाले 29 गांवों में जल्‍द ही कंस्‍ट्रक्‍शन की इजाजत दी जाएगी। साथ ही जिस प्रोजेक्ट में मजदूरों के रहने की सुविधा कैंपस या कंस्ट्रक्शन साइट पर ही होगी उन्हें प्राथमिकता मिलेगी। सांसद शंकर लालवानी ने रियल एस्‍टेट संस्‍था क्रेडाई के पदाधिकारियों से बैठक के बाद ये बात कही।

कंस्‍ट्रक्‍शन एक ऐसा सेक्‍टर है जहां अनस्किल्‍ड लेबर को काफी काम मिलता है और देश में 8 करोड़ से ज्‍यादा मजदूर कंस्‍ट्रक्‍शन क्षेत्र में ही काम करते हैं। कंसल्टिंग फर्म केपीएमजी के मुताबिक देशभर में काम रुकने से कंस्‍ट्रक्‍शन क्षेत्र को करीब 30,000 करोड़ रु का रोजाना नुकसान हो रहा है।

कोरोना वायरस के कारण इंदौर में भी करीब 200 से ज्‍यादा प्रोजेक्‍ट का निर्माण कार्य रुका हुआ है। क्रेडाई के मुताबिक इन प्रोजेक्‍ट्स की कीमत जमीन के बिना ही कीमत करीब 1,500 करोड़ रु है और जमीन के दाम भी जोड़ दिए जाए तो ये 3,500 करोड़ रु से ज्‍यादा होता है। ये सिर्फ उन प्रोजेक्‍ट्स का अनुमान है जहां कंस्‍ट्रक्‍शन हो रहा है इसमें प्‍लॉटिंग वाले प्रोजेक्‍ट शामिल नहीं है। लॉकडाउन के कारण काम रुकने से इतनी बड़ी पूंजी अटक गई है और इसका असर समाज के सभी वर्गों पर पड़ रहा है।

shankar lalwani meeting with credai

इंदौर में कंस्‍ट्रक्‍शन इंडस्‍ट्री करीब 6,000 दिहाडी मजदूरों को रोजगार देती है लेकिन काम बंद होने से इन मजदूरों के सामने भी रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। साथ ही सरकार को भी टैक्‍स के रुप में बड़ी रकम मिलती है। इन प्रोजक्‍ट्स से सरकार को करीब 130 करोड़ रु जीएसटी के रुप में मिलने का अनुमान है वहीं रजिस्‍ट्री के रुप में 270 करोड़ रु के आसपास सरकारी खजाने में जमा होंगे।

इतना ही नहीं कंस्‍ट्रक्‍शन से सीमेंट, लोहा, सैनेटरी वेयर, टाइल्‍स आदि के रुप में काफी लोगों को काम मिलता है और सरकार को टैक्‍स का भी फायदा होता है।

सांसद शंकर लालवानी ने बताया कि जिन प्रोजेक्ट में बेसमेंट का काम शुरू कर गड्ढे खोद दिए गए हैं उनसे आसपास के भवनों को बारिश में खतरा हो सकता है इसलिए क्रेडाई ऐसी सभी जगहों की सूची बनाकर जल्द ही ज़िला प्रशासन को देगी। साथ ही कंस्‍ट्रक्‍शन का काम शुरू करने की परमिशन चरणबद्ध तरीके से दी जाएगी और बिल्‍डर्स बेहद कड़ी शर्तें के साथ ही काम शुरू कर पाएंगे। कंस्‍ट्रक्‍शन साइट पर काम करने वाले सभी लोगों की सेहत की जिम्‍मेदारी बिल्‍डर की होगी। सभी को ये सुनिश्चित करना होगा कि किसी भी स्थिति में कोरोना वायरस का प्रसार ना हो।

बैठक में डॉ निशांत खरे, कलेक्टर मनीष सिंह एवं क्रेडाई के पदाधिकारी उपस्थित थे। क्रेडाई ने भी सांसद और जिला प्रशासन के साथ बैठक में तय हुई शर्तों पर सहमति जताई है और कहा है कि इस कदम से शहर में पैसों का रोटेशन बढ़ेगा और कई मजदूरों को काम भी मिल पाएगा।

Related posts
breaking newsscroll trendingअन्यगुजरातदेशमध्य प्रदेश

मुंबई-गुजरात में बारिश से बुरा हाल, इन इलाकों में जबरदस्त जलभराव

मुंबई। कोरोना ने जिस तरह देश में सबसे…
Read more
देशमध्य प्रदेश

MP : उपचुनाव के लिए बीजेपी की पहली रैली का आगाज!, सिंधिया भी होंगे शामिल

भोपाल : ज्योतिरादित्य सिंधिया के…
Read more
देशमध्य प्रदेश

मोघे ने सिंधिया परिवार से तीन पीढयों के सम्बंध का खोला राज

भोपाल : पिछले दिनों भोपाल में आयोजित…
Read more
Whatsapp
Join Ghamasan

Whatsapp Group