मध्य प्रदेश

राजमाता सिंधिया ट्रस्ट स्वदेशी पीपीई किटों का कर रहा वितरण

शिवपुरी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राह दिखाई, आत्मनिर्भर भारत की दिशा में लोकल को वोकल करते हुए शिवपुरी जिले के जैकेट निर्माता मंदी के दौर में ‘आपदा को अवसर’ बनाते हुए बन गए अब पीपीई निर्माता। यह बात आज शिवपुरी विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कही है। राजमाता विजयाराजे सिंधिया ट्रस्ट द्वारा पिछले लंबे समय से पीड़ित मानवता की जो सेवक की जा रही है उसकी जितनी सराहना कि जाए कम है। ट्रस्ट ने कोरोना काल महामारी से लड़ने में अहम रोल अदा करने वाले चिकित्सक, पुलिस सहित अन्य लोगों की भी सुध लेते हुए इन्हें सुरक्षा की दृष्टि से पीपीई किट का वितरण किया जा रहा है।

rajmata scindia trust

राजमाता विजयाराजे सिंधिया ट्रस्ट द्बारा इन पीपीई किट्स को खरीदकर इनका निःशुल्क वितरण किया जा रहा है। ट्रस्ट की अध्यक्ष शिवपुरी विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के निर्देशन में आज ट्रस्ट एवं भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर एसपी राजेश सिंह चंदेल को कोरोना महामारी से लड़ने के लिए 3 सैकड़ा से अधिक पीपीई किटें उपलब्ध कराई हैं।

rajmata scindia trust

इस दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष राजू बाथम, नगर मंडल अध्यक्ष विपुल जैमिनी, डॉ रश्मि गुप्ता सहित अन्य ट्रस्ट एवं भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे। गौरतलब है कि कोरोना महामारी में राजमाता सिंधिया ट्रस्ट द्वारा अब से पूर्व स्वास्थ्य महकमे को 5 सैकड़ा एवं प्रशासनिक अमले को एक हजार पीपीई किट उपलब्ध कराते हुए यह बात कही गई है कि यदि आगे भी शासकीय मशीनरी, कोरोना योद्धाओं को जितनी भी पीपीई किटों की आवश्यकता होगी वह सभी राजमाता सिंधिया ट्रस्ट उपलब्ध कराएगा। जिन किटों का वितरण आज पुलिस महकमे को किया गया है वे सभी किट पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल के कहने पर पुलिस की सुविधा अनुसार बनवाई जाकर उपलब्ध कराई गई है।

rajmata scindia trust

यहां बता दें कि राजमाता सिंधिया ट्रस्ट द्वारा जितनी भी किटों का वितरण किया जा रहा है वे सभी पीपीई किटें शिवपुरी जिले के बदरवास तहसील में बनाई जा रही हैं। इन किटों की बड़े स्तर पर मांग आती दिखाई दे रही है। किट बनाने वाले समूह संचालक धर्मेंद्र अग्रवाल ने बताया कि उनके पास शिवपुरी सहित अन्य जिलों से भी आर्डर आ रहे हैं। किट के निर्माण में लगभग आधा सैकड़ा कारीगर और कई मजदूर लगे हुए हैं जिनके द्वारा प्रतिदिन 300 से अधिक किट बनाई जा रही हैं।