मध्य प्रदेश

इंदौर के लिए मिल रहे सकारात्मक संदेश, कोरोना वायरस की तीव्रता कम

इंदौर: संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में आज इंदौर में कोविड पॉज़िटिव प्रकरणों के प्रबंधन के संबंध में क्लिनिकल प्रोटोकॉल की समीक्षा के लिए गठित विशेषज्ञ समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक में बताया गया कि इंदौर में अब कोविड पॉज़िटिव मरीज़ों में कोरोना वायरस की तीव्रता कम आंकलित की जा रही है। यह एक सकारात्मक संदेश है। बैठक में एमजीएम मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभागाध्यक्ष डॉ. वी. पी. पांडे ने बताया कि इंदौर में एनआरबी (नान रिब्रीथर मास्क) का उपयोग मरीज़ों को ऑक्सीजन देने में किया जा रहा है। इस प्रयोग से उन मरीज़ों को जिन्हें नाक में नली डालकर ऑक्सीजन देने पर भी सुधार नहीं हो रहा है, उन्हें साँस लेने में आसानी हो रही है। यह मास्क ऑक्सीजन थैरेपी में उपयोग में लाया जाता है।

संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी ने बैठक में समीक्षा के बाद बताया कि यह एक अच्छी ख़बर है कि इंदौर में कोविड से मृत्यु के दर अब राष्ट्रीय औसत के नज़दीक आ गई है। इंदौर में जहां पहले लगभग 11 प्रतिशत मृत्यु दर थी, अब 3.86 प्रतिशत पर आ गई है। संभागायुक्त त्रिपाठी ने बैठक में डेथ ऑडिट की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा दिए गए 10 प्रतिशत आडिट के स्थान पर कोविड से मृत्यु के सभी प्रकरणों की छानबीन की जाए और डेथ ऑडिट रिपोर्ट तैयार की जाए। त्रिपाठी ने संभाग के आसपास के ज़िलों और विशेषकर खंडवा तथा बुरहानपुर के गंभीर प्रकरण त्वरित रूप से इंदौर रेफ़र करने की आवश्यकता भी जताई। बैठक में कोविड के ट्रीटमेंट प्लान की विस्तृत समीक्षा की गई और इस प्लान पर संतुष्टि जताई गई। संभागायुक्त त्रिपाठी ने डॉ. सलिल भार्गव से इस संबंध में विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने डीन डॉ. ज्योति बिंदल को निर्देश दिए कि संभाग के सभी ज़िलों में विशेषज्ञ चिकित्सकों का एक वेबीनार आयोजित कर उन्हें ट्रीटमेंट प्लान के संबंध में और बेहतर ढंग से प्रशिक्षित करें।

बैठक में शासन द्वारा मरीज़ों को डिस्चार्ज किए जाने के संबंध में नवीन गाइडलाइन पर भी चर्चा की गई। संभागायुक्त त्रिपाठी ने निर्देश दिए कि इस गाइडलाइन के अनुरूप उपचाररत मरीज़ों के स्वास्थ्य की समीक्षा करें और जो इस गाइडलाइन के अनुरूप स्वस्थ पाए जा रहे हैं उनको डिस्चार्ज करने की प्रक्रिया आरंभ करें। बैठक में डीन मेडिकल कॉलेज डॉ. ज्योति बिंदल, डॉ. सलिल भार्गव, डॉ. वी.पी. पांडे, आईएमए के डॉ. सतीश जोशी, एनेस्थीसिया विभागाध्यक्ष डॉ. के.के अरोरा, अरविंदो हॉस्पिटल के डॉक्टर मनोज केला आदि उपस्थित थे।

Related posts
देशमध्य प्रदेश

भटकते रहे प्रवासी मजदूर, किसी को नहीं मिला पैसा : कमलनाथ

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का रतलाम के…
Read more
breaking newsscroll trendingदेशमध्य प्रदेश

शिवराज टीम में 14 ऐसे मंत्री जो विधायक भी नहीं

भोपाल। शिवराज सरकार का तीन महीने बाद…
Read more
देशमध्य प्रदेश

हर बार कांग्रेस के गढ़ में जीत दर्ज करने वाली उषा ठाकुर को मिली कैबिनेट में जगह

भोपाल: शिवराज कैबिनेट में उषा ठाकुर…
Read more
Whatsapp
Join Ghamasan

Whatsapp Group