IMF ने भारत को चेताया, अर्थव्यवस्था की सुस्त चाल भविष्य के लिए बनेगी संकट

0
30

नई दिल्ली: आज यानी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी आईएमएफ के चीफ क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने आर्थिक मंदी को लेकर चेतावनी ज़ाहिर की है. उन्होंने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में आर्थिक सुस्ती देखी जा रही है, जिसके कारण 90 फीसदी देशों की विकास की रफ्तार धीमी रहेगी. तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था के कारण भारत में सबसे ज्यादा इसका असर देखा जाएगा.

आईएमएफ के मुख्यालय में इसकी नई प्रबंध निदेशक क्रिस्टलीना जॉर्जिएवा ने कहा, ‘साल 2019 में हमें लगता है कि दुनिया के 90 फीसदी देशों में ग्रोथ रेट सुस्त रहेगी. वैश्विक अर्थव्यवस्था अब सिर्फ सुस्ती के दौर में है.’

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, वर्ल्ड बैंक और आईएमएफ की एक हफ्ते के बाद ही सालाना बैठक होने वाली है. इस बैठक में दोनों संस्थाएं अपने आर्थिक अनुमान पेश करेंगी. साथ ही इस बैठक में इसमें दुनिया के शीर्ष केंद्रीय बैंकर और वित्त मंत्री शामिल होंगे. आईएमएफ प्रमुख ने चेतावनी दी है कि 2019 और 2020 के लिए वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक एक जटिल हालात पेश करते हैं.

जॉर्जिएवा ने कहा कि “अमेरिका, जापान जैसे विकसित देशों में आर्थ‍िक गतिविधियां नरम पड़ रही हैं, खासकर यूरोप में. दूसरी तरफ, भारत और ब्राजील जैसे देशों में इस साल आर्थिक सुस्ती ज्यादा मुखर रूप में दिखी है.” उन्होंने कहा कि “चीन की अर्थव्यवस्था की रफ्तार भी अब सुस्त पड़ने लगी है.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here