इंदौर। जिले में शासकीय स्कूलों को बेहतर बनाने के निरंतर प्रयास हो रहे हैं। जहां एक और सीएम राइज स्कूलों की स्थापना की जा रही है, वहीं दूसरी और शासकीय विद्यालयों को स्मार्ट बनाने के प्रयास भी हो रहे हैं। इस दिशा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज इंदौर के 13 उच्चत्तर माध्यमिक और 9 माध्यमिक विद्यालयों को कम्प्युटर, प्रिंटर, एलसीडी प्रोजेक्टर आदि वितरित किये।

उक्त सामग्री विधायक आकाश विजयवर्गीय द्वारा विधायक निधि से उपलब्ध कराई गई है। विधायक निधि से स्कूलों में फर्नीचर भी दिये गये हैं। उक्त कार्य से शासकीय विद्यालयों के 28 हजार से अधिक विद्यार्थियों को तकनीकी शिक्षा का लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान द्वारा विधायक आकाश विजयवर्गीय की पहल पर जन सहयोग से विधानसभा क्षेत्र क्रमांक इंदौर-तीन की 60 आंगनवाड़ियों में बच्चों को खेलने के लिए टेम्पोलिन जम्पर भी वितरित किए गए।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शासकीय विद्यालयों को स्मार्ट बनाने के लिए विधायक निधि का अभिनव उपयोग किया गया है। इससे शिक्षा के स्तर में गुणात्मक सुधार आएगा और बच्चों को तकनीकी शिक्षा की पढ़ाई में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों से बेहतर बनाया जाएगा। इसके लिए सीएम राईज स्कूल योजना प्रारंभ की गई है। उन्होंने कहा कि स्कूलों को स्मार्ट बनाने के लिए दी गई सामग्री का बेहतर उपयोग सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि बच्चों में योग्यता और प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। आगे बढ़ने के लिए सिर्फ उन्हें सुविधाएं एवं अवसर उपलब्ध कराने की जरूरत है। राज्य शासन द्वारा सभी बच्चों को समान रूप से सुविधाएं एवं अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे। उन्होंने बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पढ़ो-लिखो, खेलो और आगे बढ़ो।

कार्यक्रम के प्रारंभ में विधायक आकाश विजयवर्गीय ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने कहा कि विधायक निधि के माध्यम से शासकीय स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों से बेहतर बनाया जा रहा है। विधानसभा इंदौर-तीन के 56 स्कूलों को स्मार्ट बनाने तथा तकनीकी शिक्षा के लिए जरूरी सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। आंगनवाड़ियों को टेम्पोलिन जम्पर भी दिये गए हैं।

Also Read : Mandsaur News : CBI ने Income Tax के रिश्वतखोर अधिकारी को पचास लाख की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

कार्यक्रम में संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा, सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव, विधायक मालिनी गौड़, विधायक महेन्द्र हार्डिया, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा, सावन सोनकर, गौरव रणदिवे, मनोज पटेल, सुदर्शन गुप्ता, राजेश सोनकर सहित अन्य जनप्रतिनिधि गण एवं अधिकारी और शिक्षकगण मौजूद थे।