NRC पर गिरिराज का अधीर रंजन पर पलटवार, कहा- ‘उनका सियासी DNA ही गड़बड़ है’

0
64

नई दिल्ली। कांग्रेस के विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी द्वारा लोकसभा में एनआरसी मसले को लेकर दिए बयान को लेकर केन्द्रीय मंत्री गिरीराज सिंह ने निशाना साधा है। उन्होने चौधरी को लेकर कहा कि ‘उनके राजनीतिक गोत्र का डीएनए खराब है। जिसने पूरे भारत में तुष्टिकरण की राजनीति की हो। इनका राजनीतिक डीएनए है तुष्टिकरण। 1971 में श्रीमती गांधी ने कहा था कि हमारा जनसंख्या विस्फोट इतना अधिक है कि हम सह नहीं सकते हैं। लेकिन वोट के सौदागरों के आगे घुटने टेक दिए।’

बीजेपी नेता ने कहा कि ‘आज भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने एक देश- एक कानून बनाने का काम किया। नेहरू की गलतियों को, कश्मीर की नीतियों को, 35ए और 370 को हटाकर सही किया। देश को एनआरसी की जरूरत है। अब एनआरसी के तहत, जो भारत का नागरिक है वो रहेगा जो गैर भारतीय है, उसे जाना पड़ेगा। अगर पाकिस्तान का है, बांग्लादेश का है, रोहिंग्या है, कोई भी है, उसे जाना पड़ेगा।’

केन्द्रीय मंत्री ने कहा, ‘देखिए देश को इसे वोट के चश्मे से नहीं देखना चाहिए। देश को आज तक कांग्रेस ने इसे वोट के चश्मे से देखा। मैं तमाम लोगों से कहता हूं देश के चश्मे से देखें. देश की जनसंख्या विस्फोट के चश्मे से देखें। देश में बढ़ती आबादी है। हम घुसपैठियों का भार नहीं सकते। इसलिए एनआरसी चाहिए पूरे देश में लागू हो।’

गौरतलब है कि एनआरसी को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा था कि ‘एनआरसी नाम लेकर एक ऐसा माहौल पैदा हो गया कि जो हमारे देश के वास्तविक नागरिक हैं वे भी सोचने लगे हैं कि हमारा क्या होगा। आम जन सारे कागजात लेकर नहीं बैठे रहते, गरीब, आदिवासी, पिछड़े वर्ग के लोगों को रोटी की चिंता रहती है, कागजात के बारे में सोचने का उनके पास समय नहीं है।’

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘वो दिखाना चाहते हैं कि मुसलमान को भगाएंगे। मुसलमान अगर इस देश का नागरिक है तो भागेगा क्यों, हिंदुस्तान सबके लिए है हिंदू के लिए है, मुसलमान के लिए है, लेकिन वो दिखाना चाहते हैं कि हम हिंदुओं को यहां रहने देना चाहते हैं, मुसलमानों को भगा देंगे।’

अधीर रंजन ने कहा, ‘यह हिंदुस्तान किसी की जागीर है क्या? सबका अधिकार समान है, मैं तो यह कह सकता हूं कि पीएम नरेंद्र मोदी जी, अमित शाह जी खुद घुसपैठिए हैं। घर आपका गुजरात, आ गए दिल्ली, आप तो खुद माइग्रेंट हैं। कानूनी और गैरकानूनी बाद में देखा जाएगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here