Exodus of Kashmiri Pandits again started in valley : बढ़ती हिंसा से खौफ में कश्मीरी पंडित , पंडित कॉलोनी में 90% घर हुए खाली

अनंतनाग स्थित मट्टन की कश्मीरी पंडित कॉलोनी से 90% लोग चले गए हैं। लोगों के सब्र का अब बांध टूट गया है, जिसके बाद से ही लोग रात में ही भाग गए है।

कश्मीर घाटी में एक के बाद एक हो रही हत्याओंं की वजह से कश्मीरी पंडित अपना घर छोड़कर जाने लगे हैं। PM पैकेज से दिए गए अनंतनाग के मट्टन स्थित पंडित कॉलोनी में सन्नाटा छा गया है। पंडित रंजन ज्योतिषी ने बताया कि अनंतनाग स्थित मट्टन की कश्मीरी पंडित कॉलोनी से 90% लोग चले गए हैं। लोगों के सब्र का अब बांध टूट गया है, जिसके बाद से ही लोग रात में ही भाग गए है।

यह कॉलोनी PM पैकेज योजना के अंतर्गत बनाई है और यहां पर कश्मीरी पंडित समाज के सरकारी कर्मचारी रहते हैं, लेकिन पिछले कई दिनों से हो रही हत्याओंं को देखने के बाद सभी लोग अपने घर के लिए जा रहे है। जब हालत ठीक होगी तभी ये लोग भी वापिस आएंगे।

Also Read – Jammu And Kashmir में नहीं थम रहे टारगेट किलिंग के मामले, अब प्रवासी मजदूर बने आतंकियों का निशाना

अनंतनाग और कुलगाम के कई इलाकों में कश्मीरी पंडितों ने स्थानीय प्रशासन से अपनी सुरक्षा के लिए मांग की है, इससे वो घाटी छोड़कर किसी सुरक्षित जगह पर जा सकेंगे। कश्मीर में जबसे राहुल भट्ट की हत्या हुई ही तब से ही पंडितों का प्रदर्शन जारी ही है। एक कश्मीरी पंडित अविनाश जो की अनंतनाग में रहते है उन्होंने बताया कि जब तक सुरक्षा के कड़क इंतज़ाम नहीं हो जाते है तब तक कम से कम हमे यहां से हटाने की व्यवस्था तो की जाए।

सुरक्षित जगहों पर पोस्टिंग

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने खतरे को देखते हुए कश्मीर में रहने वाले लोगों और जम्मू संभाग के बाकी कर्मचारियों को 6 जून तक सुरक्षित जगह पर ले जाने का फैसला किया है। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने कहा था कि सभी को जिला मुख्यालय में ले जाया जाए। हालांकि, जम्मू में अधिकतर कर्मचारियों का आरोप है कि टारगेट बनाकर कर्मचारियों की हत्या हो रही है।

Also Read – IPL 2022: भाषाओं का बंधन तोड़कर विराट, सहवाग, राहुल समेत इन खिलाड़ियों ने लिया Koo App पर आनंद